DA Image
23 सितम्बर, 2020|1:18|IST

अगली स्टोरी

दुष्कर्म का आरोपी सत्र न्यायालय से दोषमुक्त

default image

जिला एवं सत्र न्यायाधीश धनंजय चतुर्वेदी की अदालत ने दुष्कर्म के आरोपी को दोषमुक्त किया। उस पर एक महिला ने छह साल तक दुराचार करने का आरोप लगाया था। हालांकि अदालत में इसे साबित नहीं किया जा सका। इसके चलते वह दोषमुक्त सिद्ध हुआ।

मामला कठायतबाड़ा से जुड़ी महिला का है। उसने 16 अगस्त 2019 को कोतवाली में कविंद्र सिंह गढ़िया के खिलाफ तहरीर देकर उस पर छह साल तक दुष्कर्म करने का मामला दर्ज कराया। उसने आरोपी से चार साल का लड़का होने की बात भी कही थी। वहीं उस पर दुर्व्यवहार, मारपीट व गाली-गलौज व बच्चे को जान से मारने की धमकी देने और उसकी इच्छा के खिलाफ शारीरिक संबंध बनाने का भी आरोप लगाया था। तहरीर के आधार पर पुलिस ने धारा 323, 376 504, 506 में मामला दर्ज किया। मामले की पैरवी एसआई सुरभि राणा ने की। इसके बाद आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। आरोपी के खिलाफ आदालत में आरोप पत्र दायर हुआ। उसकी ओर से अधिवक्ता नरेंद्र सिंह कोरंगा ने पैरवी की। अभियोजन ने अदालत में छह गवाह पेश कराए। पक्षकारों के तर्क व पत्रावली पर उपलब्ध साक्ष्यों के आधार पर अदालत ने आरोपी को दोषमुक्त सिद्ध कर दिया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Accused of misdemeanor acquitted from Sessions Court