A delegation of pilgrims leaves for Sarmul Yatra - सरमूल यात्रा को श्रद्धालुओं का दल रवाना DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरमूल यात्रा को श्रद्धालुओं का दल रवाना

सरयू नदी के उद्गम स्थल को पहचान दिलाने के लिए व्यापक मुहिम चलाई जा रही है। इसी कड़ी में श्रद्धालुओं का एक दल कपकोट से सरमूल को रवाना हुआ। दल के सदस्य पूरे रास्ते की फोटो और वीडियो तैयार करेंगे। जिससे लोगों को सहस्रधारा और सरमूल आने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

रविवार की सुबह श्रद्धालुओं का दल कपकोट से रवाना हुआ। चार सदस्यीय दल पहले दिन मुनार, पतियासार, भद्रतुंगा और झूनी होते हुए पकुवाटॉप तक जाएगा। जहां रात्रि विश्राम के बाद सोमवार को सरमूल पहुंचेगा। वहां दर्शन, पूजा-अर्चना,फोटो और वीडियोग्राफी करने के बाद सदस्य वापस लौटेंगे। भद्रतुंगा विकास एवं सरयू संरक्षण समिति के सलाहकार शिक्षक दयाल सिंह कुमल्टा ने बताया कि यात्रा का उद्देश्य सरमूल को विश्व स्तर पर पहचान दिलाना है। उन्होंने बताया कि यात्रा के दौरान दल पूरे रास्ते, सहस्रधारा और सरमूल की खूबसूरती को कैमरे में कैद करेगा। इसका इस्तेमाल सरमूल पर बन रही डॉक्यूमेंट्री में किया जाएगा। देश-विदेश के सैलानियों को आकर्षित करने के लिए इन फोटो और वीडियो को सोशल मीडिया पर भी प्रसारित किया जाएगा। इसके अलावा मार्ग की परेशानियों का चित्रण कर शासन-प्रशासन तक भी पहुंचाया जाएगा। जिससे प्रशासन को समस्याओं को जानने और उनके निदान करने में आसानी होगी। दल में भद्रतुंगा के महंत देवानंद दास महाराज, शिक्षक गोपाल सिंह भंडारी और खटीमा से आए फोटोग्राफर मनोज सिंह रावत शामिल हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:A delegation of pilgrims leaves for Sarmul Yatra