अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बागेश्वर में बारिश के कारण 8 ग्रामीण सड़कें बंद

जिले में हो रही बारिश लोगों के सिरदर्द बन चुकी है। बारिश के चलते आठ ग्रामीण सड़कें मलबा आने से बंद हो गई हैं। जिससे ग्रामीणों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है। जहां सड़कों के बंद होने से क्षेत्र में जरूरी सामान महंगे दामों में बिक रही है। वहीं विभाग सड़कों को खोलने का दावा कर रहा है। लेकिन जमीनी हकीकत यह है सड़क बंद होने का सीधा असर गांव की गरीब जनता की जेबों पर पड़ रहा है।

बागेश्वर में रुक-रुककर लगातार हो रही बारिश से लोगों के लिए परेशानी का सबब बन चुकी है। बारिश के बाद आए मलबे से बिनतोली-कुचाली, भयूं- गडेरा, दोफाड़-पपों-रताइश, ढपटी-झांकरा, धरमघर -माजखेत, शामा-नौकोड़ी, बैड़ा-मझेड़ा-जारती, लीली सड़कें यातायात के लिए पूर्णतया बंद हैं। भयूं-गडेरा और धरमघर-माजखेत सड़क 22 अगस्त से बंद पड़ी हैं। जिन्हें अब तक नहीं खोला जा सका है। जिसका सीधा असर गरीब ग्रामीणों पर पड़ रहा है। ग्रामीण मोहनराम, पार्वती देवी, हेमा देवी, उदेराम ने कहा कि सड़कों के लंबे समय से बंद होने से उनकी परेशानियां बढ़ गई हैं। कहा कि सरकार की ओर से सड़कों को बनाने पर करोड़ों रुपये खर्च किए जा रहे हैं। लेकिन हर बार सड़कें क्षतिग्रस्त हो जाती हैं। जिसमें सड़क की गुणवत्ता पर भी सवालिया निशान लगता है। उन्होंने कहा कि सड़कें बंद होने से क्षेत्र में जरूरत का सामान तय कीमत से अधिक में बिक रहा है। जिसका खामियाजा मध्यम और गरीब वर्ग के लोगों को भुगतना पड़ रहा है। इस दौरान उन्होंने शासन-प्रशासन और संबंधित विभागों से शीघ्र बंद सड़कों को खोलकर यातायात बहाल करने की मांग की। कहा कि अगर शीघ्र बंद सड़कों को नहीं खोला गया तो वे उग्र आंदोलन को बाध्य होंगे।

इनसेट

बंद सड़कों को खोलने का कार्य युद्धगति पर किया जा रहा है। कुछ सड़कों पर मलबा आया है। उनको भी शीघ्र यातायात के लिए खोल दिया जाएगा। -रंजना राजगुरु, डीएम, बागेश्वर।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 8 villages blocked by rain in Bageshwar