DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वीडियोःकफलखेत गांव में डायरिया से 30 परिवार पीड़ित

वीडियोःकफलखेत गांव में डायरिया से 30 परिवार पीड़ित

कफलखेत गांव जिला मुख्यालय से सटा हुआ है। गांव में 90 परिवार रहते हैं। जिसमें 30 परिवार डायरिया के शिकार हो गए हैं। एक पूरा परिवार उल्टी-दस्त से पश्त है। ग्रामीण स्रोत का पानी पीते हैं। शुक्रवार को आपके अपने अखबार हिन्दुस्तान ने कफलखेत गांव का रुख किया। गांव की जनसंख्या 425 है। प्रत्येक घर में डायरिया फैला हुआ है। लोग उल्टी और दस्त से परेशान हैं। परसी लाल वर्मा ने बताया कि उनका पूरा परिवार पिछले तीन दिन से उल्टी-दस्त कर रहा है। उनकी पत्नी समेत पांच लोग परिवार में डायरिया के शिकार हैं। उन्होंने कहा कि डाक्टरों की टीम गांव आने से कतरा रही है। जबिक शहर से सटा गांव है। वहीं गांव की उमेदी देवी, गंगा वर्मा, बसंती देवी, लीला देवी, तुलसी देवी, रेखा कार्की, मोहित, जितेंद्र, नीमा, शोभा, अपूर्व, दीक्षा समेत 30 परिवारों के बच्चे, बुजुर्ग और जवान डायरिया के चलते पश्त पड़े हुए हैं। सीएमओ डा,सैलजा भट्ट ने बताया कि गुरुवार को डाक्टरों की टीम गांव भेजी थी। स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया। दवाईयां भी वितरित की गईं। जरूरत पड़ने पर गांव में पुन: डाक्टरों की टीम भेजी जाएगी। डाक्टरों की टीम नहीं आईः ग्राम प्रधान इंद्रा देवी ने बताया कि गांव में पिछले 15 दिन से डायरिया फैला हुआ है। तबीयत अधिक खराब होने पर लोग अस्पताल जा रहे हैं। दवा लेकर घर आते हैं। उन्होंने कहा कि डाक्टरों की टीम गांव भेजी जानी चाहिए। सीएमओ से भी इसको लेकर बात हुई है। उन्होंने कहा कि गांव में स्वास्थ्य शिविर लगाया जाना चाहिए। प्रधान ने बताया कि इसबीच गांव के लोग स्रोत का पानी पी रहे हैं। डायरिया गंदा पानी पीने से भी हो सकता है। डाक्टरों ने दिए टिप्सः जिला अस्पताल के डाक्टर पंकज पंत ने कहा कि डायरिया गंदा पानी और बॉसी भोजन से हो सकता है। मौसम में आ रहा परिर्वतन स्वास्थ्य के लिए बेहद खराब होता है। लोग उबाल कर पानी पिएं। बॉसी भोजन, कटे फल और ठंडे पेय पदार्थों से बचें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:30 families suffer from diarriea in village Kafalkhet