DA Image
29 फरवरी, 2020|1:11|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रानीखेत में सेना के विरोध में सड़कों पर उतरे लोग

रानीखेत में सेना के विरोध में सड़कों पर उतरे लोग

स्वीकृत चौबटिया-नागपानी-देहोली मोटर के निर्माण कार्य पर सेना की ओर से अड़ंगा लगाने का मामला तूल पकड़ गया है। सेना पर मनमानी और जनहित की अनदेखी का आरोप लगाते हुए सोमवार को क्षेत्र के ग्रामीण सड़कों पर उतर आए। आक्रोशित ग्रामीणों ने झूलादेवी स्थित सेना के चेकपोस्ट के पास धरना-प्रदर्शन के साथ सड़क जाम कर दी। कड़ाके की ठंड और बारिश के बीच करीब दो घंटे चक्काजाम से सेना और आम लोगों को दिक्कतें झेलनी पड़ीं। बाद में संयुक्त मजिस्ट्रेट के आश्वासन के बाद ग्रामीणों ने धरना स्थगित किया। इस संबंध में 10 जनवरी को संयुक्त मजिस्ट्रेट, सैन्य अधिकारियों तथा जनप्रतिनिधियों की संयुक्त बैठक होगी। इससे पहले सुबह जन प्रतिनिधियों के शिष्टमंडल ने रानीखेत में संयुक्त मजिस्ट्रेट को ज्ञापन भी सौंपा। चौबटिया-नागपानी-देहोली मोटर मार्ग का निर्माण कार्य आरंभ नहीं हो पाने से क्षेत्र के ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। सेना के स्तर से सड़क का निर्माण कार्य रोकने के विरोध में सोमवार को कालनू, देहोली, शिवाली के ग्रामीण सोमवार को पूर्वाह्न करीब 11 बजे झूलादेवी स्थित सेना के चेकपोस्ट के पास जुटे तथा धरने पर बैठ गए। प्रदर्शनकारियों में बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल रहीं। इस दौरान जन प्रतिनिधियों के एक शिष्टमंडल ने रानीखेत तहसील मुख्यालय पहुंचकर इस बाबत संयुक्त मजिस्ट्रेट को संबोधित ज्ञापन नायब तहसीलदार को सौंपा। उधर, झूलादेवी में प्रदर्शनकारियों का धरना अपराह्न 12 बजे चक्काजाम में बदल गया। आंदोलनकारी ग्रामीणों ने सड़क में जाम लगा दिया। मौके पर सभा में वक्ताओं ने कहा कि मोटर मार्ग निर्माण को पूर्व में सेना की ओर से एनओसी दी जा चुकी है, इसके बावजूद अब सड़क निर्माण में अड़ंगा लगाया जाना सेना की मंशा पर सवाल खड़ा करता है। बाद में संयुक्त मजिस्ट्रेट से वार्ता व आश्वासन के बाद ग्रामीणों ने करीब दो बजे धरना और जाम स्थगित कर दिया। संयुक्त मजिस्ट्रेट से हुई वार्ता का हवाला देते हुए जिला पंचायत सदस्य धन सिंह रावत सहित कैंट बोर्ड उपाध्यक्ष मोहन नेगी व पूर्व सभासद उमेश पाठक ने बताया कि 10 जनवरी को संयुक्त मजिस्ट्रेट, सैन्य अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों की संयुक्त बैठक होगी। जिसमें सड़क निर्माण पर सहमति बना ली जाएगी। इस मौके पर बीडीसी सदस्य कलावती फर्त्याल, प्रधान मोहन राम, प्रधान गंगा देवी, प्रदीप कुमार पूर्व बीडीसी सदस्य कुंदन बिष्ट सहित दर्जनों ग्रामीण मौजूद रहे।

2.80 करोड़ से होना है सड़क का निर्माण

रानीखेत। लोनिवि प्रांतीय खंड के सहायक अभियंता केएस बिष्ट ने भी कहा कि सेना की ओर से सशर्त अनापत्ति व सभी औपचारिकताएं पूरी होने के बाद 2.80 करोड़ की लागत से स्वीकृत चौबटिया-नागपानी-देहोली मोटर मार्ग का गत शनिवार से निर्माण शुरू होना था।

सड़क कटान के लिए चौबटिया जा रही जेसीबी को रोकने से भड़का जनाक्रोश

रानीखेत। ग्रामीणों की लंबी मांग व संघर्षों के बाद चौबटिया-नागपानी-देहोली मोटर मार्ग को स्वीकृति मिली। वन भूमि क्लीयरेंस सहित सभी औपचारिकताएं पूरी होने के बाद उक्त सड़क निर्माण का काम शुरू होना है। बीते शनिवार को सड़क कटान का काम शुरू करने के लिए जेसीबी मशीन चौबटिया की ओर जा रही थी। लेकिन झूलादेवी स्थित सेना के चेकपोस्ट में सेना के जवानों ने जेसीबी को रोक दिया। उनका कहना था कि छावनी क्षेत्र में किसी भी तरह की मशीन ले जाने की अनुमति नहीं है। जिसके बाद क्षेत्र के ग्रामीणों ने चेकपोस्ट पर पहुंचकर हंगामा किया था।

सैन्य छावनी क्षेत्र से शुरू होना है सड़क का निर्माण कार्य

रानीखेत। पांच किमी लंबे चौबटिया-नागपानी-देहोली मोटर मार्ग का निर्माण चौबटिया छावनी के हैलीपैड के पास से होना है। चौबटिया सैन्य छावनी का लगभग दो सौ मीटर हिस्से से सड़क निर्माण का कार्य आरंभ होगा। संभवत: छावनी क्षेत्र में सड़क निर्माण कार्य को लेकर सेना की ओर से अनुमति प्रदान करने में दिक्कतें पेश आ रहीं हैं। हालांकि इस संबंध में सैन्य अधिकारियों से संपर्क नहीं हो सका।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Villagers took to the streets to protest against the army s road construction