DA Image
17 जनवरी, 2020|9:36|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अल्मोड़ा में उत्तराखंड क्रांतिदल ने निकाला क्रांति मार्च

अल्मोड़ा में उत्तराखंड क्रांतिदल ने निकाला क्रांति मार्च

अगस्त क्रांति दिवस पर शुक्रवार को उत्तराखंड क्रांतिदल, गुरिल्लों और राज्य आंदोलनकारी संगठनों की ओर से नगर में अगस्त क्रांति मार्च निकाला। इस दौरान 19 वर्ष बाद भी राज्य की स्थायी राजधानी तय नहीं होने, गुरिल्लों को पेंशन और नियुक्ति देने सहित राज्य आंदोलनकारियों का ठीक से चिंहीकरण नहीं पर नाराजगी व्यक्त की गई। नगरभर में निकाली गई मार्च में कई लोग शामिल रहे। शुक्रवार को अग्रस्त क्रांति दिवस के मौके पर उत्तराखंड क्रांतिदल, गुरिल्ला और राज्य आंदोलनकारी यहां चौघानपाटा गांधी पार्क में एकत्रित हुए। लोगों ने हाथों में तख्तियों को लेकर अगस्त क्रांति मार्च शुरू किया गया। वक्ताओं ने कहा कि उत्तराखंड राज्य बने 19 साल बीत गये हैं। अब तक राज्य की स्थायी राजधानी तय नहीं हुई है। 13 वर्षों से गुरिल्लें नौकरी और पेंशन की मांग कर रहे हैं। सरकार उनकी मांगों की अनदेखी कर रही है। उन्होंने कहा कि राज्य आंदोलनकारियों का ठीक तरह से चिंहीकरण नहीं किया गया है। राज्य बनने के बाद भी युवाओं को रोजगार के लिए भटकना पड़ रहा है। इस दौरान प्रदेश की विभिन्न समस्याओं को लेकर पूरे जिले में मार्च निकालने का निर्णय लिया गया। इस दौरान चौघानपाटा से माल रोड, मिलन चौक, बाटा चौक, कारखाना बाजार, जौहरी बाजार, थाना बाजार, एसएसपी कार्यालय होकर वापस चौघानपाटा गांधी पार्क क्रांति मार्च निकाला गया। मार्च में जिलाध्यक्ष शिवराज सिंह बनौला, ब्रहमानंद डालाकोटी, चंद्र सिंह डसीला, रविंद्र बिष्ट, पान सिंह, जीवन सिंह, भुवन जोशी, गोपाल सिंह बनौला, विशन सिंह नेगी, दिनेश जोशी, मनोहर सिंह, रणजीत सिंह, विशन राम, पनीराम, पूरन सिंह, कुंदन सिंह, कैलाश राम, सुंदर सिंह, अर्जुन सिंह, प्रेम बल्लभ कांडपाल, गोपाल गैड़ा, चंद्रशेखर जोशी, कमलेश जोशी, रक्षित गुणवंत, महेंद्र सिंह,बसंत लाल, महेश पांडे, कैलाश तिवारी, आनंदी महरा, दीपा परगाई, ममता मेहरा, देवकी देवी, कमला देवी, दीपा साह, रेखा आर्या आदि मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Uttarakhand Kranti Dal removed August revolution march in Almora