DA Image
14 अगस्त, 2020|10:51|IST

अगली स्टोरी

उपपा कार्यकर्ताओं ने श्रमिकों-गरीबों के लिए सुविधाएं मांगी

उपपा कार्यकर्ताओं ने श्रमिकों-गरीबों के लिए सुविधाएं मांगी

अल्मोड़ा में विश्व श्रमिक दिवस पर उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी ने संगठित एवं संगठित क्षेत्र के श्रमिकों समेत गरीबों की समस्याओं की ओर ध्यान आकर्षित करने को एक दिवसीय उपवास किया। सुबह करीब नौ से शाम पांच बजे तक पार्टी पदाधिकारी और कार्यकर्ता घरों पर ही उपवास पर बैठे रहे।

शुक्रवार को अपने आवास में उपवास पर बैठे उपपा के केंद्रीय अध्यक्ष पीसी तिवारी ने कहा दुनिया, देश को बनाने और संवारने वाले श्रमजीवियों के खिलाफ हो रही साजिशें अब बंद होनी चाहिये। उन्होंने कोरोना महामारी से रोकथाम और राहत कार्यों के लिए जन भागीदारी से भष्ट्राचार मुक्त पारदर्शी व्यवस्था और फिजूल खर्च पर भी रोक लगाने की मांग की। कहा कोरोना आपदा में सबसे अधिक परेशानी प्रवासियों, संगठित, असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों और गरीबों को हो रही है। जो लंबे समय से विभिन्न इलाकों में फंसे वहां उन्हें बुनियादी सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। उन्होंने कहा कर्मचारियों और पेंशनरों के भत्तों पर बिना उनकी सहमति के रोक नहीं लगाई जाए। सरकारों को बैंकों के बड़े घोटाले बाजों से पाई-पाई वसूली कर आपदा नियंत्रण में लगाना चाहिये। उनके साथ गोपाल और राजू गिरी भी उपवास पर बैठे रहे। इसके अलावा आनंदी वर्मा, केएन आर्या, हीरा, रेशमा, कर्मचारी नेता चंद्रमणि भट्ट, कौस्तूभानंद भट्ट, मनोज पंत, प्रकाश राम, मनोज राम, हेम पांडे सहित लोगों ने घर पर बैठकर कर उपवास किया। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान रखा गया।

---------

उत्तराखंड छात्र संगठन ने सहयोग दिया

अल्मोड़ा। अल्मोड़ा में उत्तराखंड परिर्वतन पार्टी के उपवास कार्यक्रम को उत्तराखंड छात्र की ओर से सहयोग दिया गया। संगठन से जुटे छात्रों ने रामनगर, द्वाराहाट, अल्मोड़ा सहित स्थानों में अपने घरों पर बैठकर उपवास किया। ---------------

अल्मोड़ा में फड़ एवं खोखा व्यापारियों ने मांगी 5 हजार की सहायता

अल्मोड़ा। विश्व मजदूर दिवस पर फड़ एवं खोखा व्यवसायी यूनियन ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर मई दिवस के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। शुक्रवार को यूनियन के मुमताज अख्तर एवं नवीन कुमार ने कहा वर्तमान दौर में वैश्विक बीमारी कोरोना वायरस के चलते सबसे ज्यादा असर मजदूर वर्ग एवं छोटे फड़ व्यवसायी के ऊपर पड़ा है। कहा केंद्र एवं राज्य सरकारों के आदेशों का पालन करते हुए मजदूर वर्ग एवं फड़ व्यवसायी अपने कामों से एक माह से अधिक समय से वंचित है। इस कारण उनकी आर्थिक स्थिति दयनीय हो गई है। आजीविका चलाना बहुत कठिन हो गया है। वक्ताओं ने कहा इस वैश्विक महामारी के दौर में निर्धन व्यवसायियों को अपने परिवार का जीवन यापन करना मुश्किल हो गया है। उन्होंने पांच हजार की आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने सहित निशुल्क राशन वितरण करने की मांग की।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Uppa workers sought facilities for workers and poor