ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंड अल्मोड़ाप्रशिक्षु अधिकारियों को बताए पर्वतीय फसलों की रक्षा के गुर

प्रशिक्षु अधिकारियों को बताए पर्वतीय फसलों की रक्षा के गुर

भाकृअनुप-विवेकानंद पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान में गुरुवार देर शाम आईएएस प्रशिक्षु अधिकारियों के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम हुआ। अधिकारियों...

प्रशिक्षु अधिकारियों को बताए पर्वतीय फसलों की रक्षा के गुर
हिन्दुस्तान टीम,अल्मोड़ाFri, 21 Jun 2024 11:00 PM
ऐप पर पढ़ें

भाकृअनुप-विवेकानंद पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान में गुरुवार देर शाम आईएएस प्रशिक्षु अधिकारियों के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम हुआ। अधिकारियों को पर्वतीय फसलों की रक्षा के गुर बताए गए। साथ ही नई तकनीकों, उन्नत किस्म के बीजों आदि की भी जानकारी दी गई।
वीपीकेएएस हवालबाग में पर्वतीय फसलों पर हुए एक दिवसीय भ्रमण व प्रशिक्षण कार्यक्रम में संस्थान के निदेशक डॉ लक्ष्मीकांत ने पर्वतीय कृषि की चुनौतियों और संभावनाओं पर चर्चा की। प्रशिक्षुओं से अपने जिले में किसानों की उन्नति के लिए प्रोजेक्ट तैयार करने की बात कही। फसल सुरक्षा प्रभाग के प्राभागाध्यक्ष डॉ कृष्ण कान्त मिश्रा ने कहा कि कीट और बिमारियों से पर्वतीय फसलों की रक्षा करने की जरूरत है। प्रशिक्षण में वैज्ञानिकों ने पर्वतीय किसानों के लिए विकसित उन्नत फसल किस्मों के बारे में बताया। कहा कि इनसे उत्पादकता और गुणवत्ता को बढ़ाया जा सकता है। इसके अलावा फसल उत्पादन और कटाई उपरांत फसल तकनीकों, विभिन्न राज्यों में चल रही जनजातीय उपयोजना, पूर्वोत्तर राज्यों में संस्थान के कार्यों आदि पर भी बात हुई। प्रशिक्षुओं को मधुमक्खी पालन, मशरूम उत्पादन, कृषि मशीनरी इकाई, जल प्रबंधन क्षेत्र आदि का भ्रमण भी कराया गया। कार्यक्रम में डॉ निर्मल कुमार हेडाऊ, डॉ बृज मोहन पांडे, डॉ राजेश खुल्बे, डॉ रघुनंदन सिंह टोलिया, गौरी प्रभात, दीक्षिता जोशी, डॉ जय प्रकाश आदित्य आदि रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।