The great heritage of Sanatan Dharma was Satyamitrananda condolence - सनातन धर्म की बड़ी धरोहर थे सत्यमित्रानंद DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सनातन धर्म की बड़ी धरोहर थे सत्यमित्रानंद

शिव मंदिर समिति की आकस्मिक बैठक में भारत माता मंदिर हरिद्वार के संस्थापक व संरक्षक सत्यमित्रानंद सरस्वती के ब्रह्मलीन होने पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की गई। वक्ताओं ने कहा कि सत्यमित्रानंद सनातन धर्म की बड़ी धरोहर थे। शंकराचार्य के पद से सेवानिवृत्त होने के बाद भी भारतीय सनातक धर्म की सेवा करने का जो बेड़ा उन्होंने उठाया था, उससे सभी भारतवासी गौरवांवित और कृतज्ञ हैं। बैठक के अंत में दो मिनट का मौन रख श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। शिव मंदिर समिति अध्यक्ष कैलाश पांडे की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में जगदीश अग्रवाल, पूरन नेगी, अगस्त लाल साह, अतुल अग्रवाल, दिनेश अग्रवाल, प्रदीप अग्रवाल, धर्मेंद्र अग्रवाल, रमेश खंडेलवाल, अनूप अग्रवाल, अनिल वर्मा, मुकेश साह, किरन लाल साह, राजेंद्र पंत, बृजेश जोशी, उमेश बिष्ट, विजय पांडे, मोहन बिष्ट, पंकज साह, सुंदर लाल गोयल, विमला पांडे, आशा अग्रवाल, गीता नेगी, अनीता अग्रवाल, सरोज गोयल, मंजू अग्रवाल, दीपा पांडे आदि रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The great heritage of Sanatan Dharma was Satyamitrananda condolence