DA Image
23 अक्तूबर, 2020|2:57|IST

अगली स्टोरी

हाथरस गैंगरेप व मर्डर की घटना से पर्यटन नगरी में उबाल, विरोध में सड़कों पर उतरा बाल्मीकि समाज

हाथरस गैंगरेप व मर्डर की घटना से पर्यटन नगरी में उबाल, विरोध में सड़कों पर उतरा बाल्मीकि समाज

उप्र के हाथरस में हुई गैंगरेप व हत्या की घटना से पर्यटन नगरी में भी भारी गुस्सा है। घटना के विरोध में बाल्मीकि समाज ने सड़कों पर उतर प्रदर्शन किया। उत्तराखंड बाल्मीकि कल्याणकारी महासभा ने राष्ट्रपति को ज्ञापन भेज दोषियों को फांसी पर लटकाने तथा पीड़ित दलित परिवार को इंसाफ की मांग उठाई। साथ ही घटना की सीबीआई जांच की भी मांग उठाई गई। बीते बुधवार की रात बाल्मीकि महासभा ने मृतका की स्मृति में नगर में कैंडल मार्च निकालकर भी श्रद्धांजलि दी। जय मां कालका न्यावली वाली देवी राष्ट्रीय मंदिर समिति ने भी प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेज दोषियों को फांसी देकर पीड़िता को इंसाफ दिलाने की गुहार लगाई है। हाथरस में बालिका से गैंगरेप के बाद उसकी बर्बर हत्या की घटना से आक्रोश की लहर है। बीते बुधवार की रात उत्तराखंड बाल्मीकि कल्याणकारी महासभा के नेतृत्व में बाल्मिकी समाज के लोगों ने घटना के विरोध में पदर्शन किया। चौक में जुटे बाल्मीकि समाज के लोगों ने मोमबत्ती जलाकर दिवंगत पीड़ता को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद मृतका की स्मृति में नगर में कैंडल मार्च भी निकाला गया। इधर, बुधवार को कल्याणकारी महासभा ने प्रशासन के माध्यम से राष्ट्पति को ज्ञापन भेजकर गैंगरेप व हत्या की घटना की सीबीआई जांच कराने के साथ मामले की सुनवाई फास्ट ट्रेक कोर्ट में कराने की मांग उठाई। कहा कि गैंगरेप व हत्या की घटना ने उप्र की लचर कानून व्यवस्था को उजागर किया है। पीड़ित दलित परिवार को हर हाल में इंसाफ मिलना चाहिए। ज्ञापन भेजने वालों में महासभा अध्यक्ष जगदीश बाल्मीकि सहित किशन चौधरी, सुमन चौधरी, नवीन भाई, राकेश राजौरिया, कृष्ङ, नितिन, हेमंत, नीरज, हरीश, रोहित, दिवेश, अनिल, राहुल, अनिल, अरूण, वीरेंद्र, हरिओम आदि शामिल रहे। जबकि घटना के संबंध में प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेजे वालों में कालका न्यावली वाली देवी मंदिर समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुनील कुमार आदि शामिल हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hathras gang rape and murder incident boils down in tourism city Balmiki community took to the streets in protest