DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गलत कोटिकरण के चलते राइका पीपली आने को तैयार नहीं गुरुजी

लमगड़ा ब्लॉक के जैंती तहसील के विद्यालयों के गलत कोटीकरण की वजह से छात्र छात्राओं का भविष्य अंधकार की ओर जा रहा है। विभाग की इस गलती का खामियाजा छात्रों को भुगतना पड़ रहा है। राजकीय इंटर कॉलेज पीपली गलत कोटीकरण की बानगी भर है। यहां शिक्षक कार्यभार ग्रहण किए बिना ही वापस लौट रहे हैं।

जैंती तहसील से करीब 18 किलोमीटर दूर स्थित यह विद्यालय पिछले साल तक दुर्गम श्रेणी में था जिसे इस साल सुगम श्रेणी का विद्यालय बना दिया गया है। कुछ समय पहले विद्यालय को संस्कृत विषय के प्रवक्ता मिले थे। उन्होंने यहा कि स्थिति को देखते हुए कार्यभार ग्रहण नहीं किया। इसके अलावा विज्ञान, अंग्रेजी, व्यायाम, संस्कृत, भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, गणित, अर्थशास्त्र, हिन्दी विषय में भी अध्यापकों के पद खाली हैं। बच्चे 10 किलोमीटर दूर से विद्यालय तो जरूर पहुंचते है लेकिन विद्यालय में अध्यापक नहीं होने से बच्चों को खाली बैठना पड़ता है।

विद्यालय प्रबंध समिति के अध्यक्ष चंदन सिह नेगी का कहना है कि 2013 से पूर्व विद्यालय विशिष्ठ दुर्गम श्रेणी में था उसके बाद दुर्गम श्रेणी में डाल दिया गया। जबकि अप्रैल 2018 की कोटीकरण में विद्यालय को दुर्गम श्रेणी से हटाकर सुगम श्रेणी में रख दिया है। जिससे यहां पर कोई भी अध्यापक नई तैनाती लेने को तैयार नहीं। यदि विभाग जल्द इसमें सुधार नहीं करता है तो सभी अभिभावक आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।

शिक्षकों की कमी से बच्चों के पठन-पाठन में प्रभाव पड़ रहा है। जो अध्यापक मिल रहे है वह कार्यभार ग्रहण किये बिना ही वापस जा रहे हैं। जैसे तैसे काम चलाकर बच्चों को पढ़ाया जा रहा है। रमेश चंद्र, प्रधानाचार्य राइका पीपली-

विद्यालय में शिक्षकों की स्थिति एलटी में कुल पद -7खाली पद - विज्ञान, अंग्रेजी, व्यायाम ------प्रवक्ता कुल पद- 9खाली पद - संस्कृत, भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान , गणित, अर्थशास्त्र, हिन्दी-----फोटो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Guruji is not ready to come to GIC Pipali due to incorrect coding