DA Image
21 अक्तूबर, 2020|6:08|IST

अगली स्टोरी

अंतिम वर्षों के छात्रों को भी किया जाए प्रोन्नत

अंतिम वर्षों के छात्रों को भी किया जाए प्रोन्नत

कोरोना लॉकडाउन के मद्देनजर स्नातक द्वितीय और चतुर्थ सेमेस्टर तथा स्नातकोत्तर में द्वितीय वर्ष के छात्र-छात्राओं को प्रोन्नत करने के बाद अंतिम वर्ष के छात्रों ने भी आंतरिक मूल्यांकन तथा अतिरिक्त अंकों के साथ उन्हें प्रोन्नत करने की मांग उठाई है। प्राचार्य डॉ. पीके पाठक के माध्यम से कुलपति को भेजे ज्ञापन में अंतिम वर्ष के छात्र-छात्राओं ने कहा है कि कोविड-19 महामारी में विषम हालातों के मद्देनजर स्नातक द्वितीय, चतुर्थ व स्नातकोत्तर में द्वितीय वर्ष के विद्यार्थियों को विश्वविद्यालय द्वारा प्रोन्नत कर दिया गया है। रानीखेत में अधिकांश विद्यार्थी दुर्गम क्षेत्रों से कालेज आते हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में यातायात व इंटरनेट सेवा न के बराबर है। अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों की परीक्षाएं अगस्त व परिणाम अक्टूबर में आने की स्थिति में विद्यार्थी के अनुत्तीर्ण होने पर पूरा साल बर्बाद हो जाएगा। लॉकडाउन में शैक्षणिक कार्य न हो पाने के कारण विद्यार्थियों की पढ़ाई नहीं हो सकी है। छात्र-छात्राओं ने हरियाणा, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र उड़ीसा सहित सात राज्यों का हवाला देते हुए रानीखेत पीजी कालेज सहित विश्वविद्यालय के सभी महाविद्यालयों में अध्ययनरत स्नातक व स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष के छात्र-छात्राओं को भी प्रोन्नत किए जाने की मांग उठाई है। विद्यार्थियों के भविष्य के मद्देनजर आंतरिक मूल्यांकन व 10 प्रतिशत अतिरिक्त अंकों के साथ प्रोन्नत किए जाने की अपील की है। ज्ञापन भेजने वालों में विवि के छात्र महासंघ अध्यक्ष धनंजय बेलवाल सहित हेमंत रिखाड़ी, भुवन बिष्ट, हरीश कड़ाकोटी, भुवन सिंह बिष्ट, मयंक आदि शामिल हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Final year students should also be promoted