ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंड अल्मोड़ासोमेश्वर में चार दिन से बिजली-पानी सप्लाई ठप

सोमेश्वर में चार दिन से बिजली-पानी सप्लाई ठप

बुधवार रात हुई अतिवृष्टि के भेट चढ़ी पांच पेयजल योजनाएं सोमेश्वर में चार दिन से सप्लाई ठप सोमेश्वर में चार दिन से सप्लाई...

सोमेश्वर में चार दिन से बिजली-पानी सप्लाई ठप
हिन्दुस्तान टीम,अल्मोड़ाSat, 11 May 2024 10:45 PM
ऐप पर पढ़ें

सोमेश्वर, संवाददाता। विधानसभा के चनौदा में आफत की बारिश के बाद बिजली-पानी ने लोगों की दिक्कत बढ़ा दी है। बीते चार दिन से क्षेत्र में बिजली-पानी सप्लाई ठप है। इससे लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। शनिवार को भी आपदा प्रभावित परिवार घरों से मलबा हटाने के कार्य में जुटे रहे।
बीती बुधवार रात सोमेश्वर के चनौदा में अतिवृष्टि हुई। इससे बाघ गधेरा उफान पर आ गया। गधेरे के तेज बहाव के साथ जंगल की मिट्टी, बोल्डर बहकर चनौदा वासियों के घरों में घुस गया। किसी के घर की दीवार टूट गई तो किसी के दरवाजे खिड़कियां जमींदोज हो गईं। सोमेश्वर कौसानी हाईवे मलबे से पट गया और उपजाऊ खेत पत्थर-मलबे से भर गए। स्थानीय लोगों के मुताबिक क्षेत्र के लिए पेयजल मुहैया कराने वाली पांच-पांच योजनाएं अतिवृष्टि से ठप हो गईं हैं। चार दिन बीतने के बाद भी पेयजल की आपूर्ति सुचारू नहीं हो पाई है। लोग किसी तरह पेयजल आपूर्ति करने को मजबूर हैं। लोगों के मुताबिक प्रशासन ने सड़क से मलबा हटाने के लिए जेसीबी लगाई थी। जेसीबी की चपेट में कुछ बिजली के तार आ रहे थे। उस समय प्रशासन ने बिजली काट दी थी। अब जेसीबी मलबा हटा चुकी है, लेकिन अभी तक बिजली आपूर्ति सुचारू नहीं की जा सकी है। उन्होंने क्षेत्र में बिजली और पानी की आपूर्ति बहाल करने की मांग की है।

दिनभर मलबा साफ करने में जुटे रहे लोग

अतिवृष्टि के चौथे दिन शनिवार को भी प्रभावित परिवार घरों में घुसा मलबा हटाने में जुटे रहे। लोगों का पूरा दिन मलबा साफ करने में बीत रहा है। प्रभावितों के मुताबिक भारी मलबे को हटाने के लिए मजदूर लगाने पड़ रहे हैं। चार दिन से मजदूर काम कर रहे हैं, अब तक मलबा नहीं हट पाया है। वहीं, खेतों में मलबा आने से पूरी फसल चौपट हो गई है।

नहीं खुल सका सोमश्वर-कौसानी हाईवे

भारी मलबा आने से चौथे दिन भी सोमेश्वर-कौसानी हाईवे पर आवाजाही सुचारू नहीं हो पाई। बीते तीन दिन से लोनिवि की जेसीबी मलबा हटाने में जुटी हुई है, लेकिन अब तक हाईवे खोला नहीं जा सका है। स्थानीय लोगों ने प्रशासन पर सड़क का मलबा उनके घरों के आगे जमा करने का आरोप लगाया है। इससे उनके लिए दिक्कतें बढ़ रही हैं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।