DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रानीखेत में डॉक्टरों को कैपीटल लैटर में जैनरिक दवाएं लिखने के निर्देश

जिलाधिकारी सविन बंसल ने नगर के गोविंद सिंह माहरा राजकीय चिकित्सालय का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। आपातकालीन वार्ड में व्यवस्थाएं दुरुस्त नहीं मिलने पर नाराजगी जताते हुए इमरजेंसी किट रखे जाने को कहा। डीएम ने वार्डों में जाकर रोगियों से भी जानकारी ली तथा चिकित्साधीक्षक को मरीजों को हर संभव सुविधाएं मुहैया कराने तथा डॉक्टरों को जैनरिक दवाएं लिखने के निर्देश दिए। इसके बाद चिकित्सालय प्रबंधन समिति की बैठक में चिकित्सालय में 2 लैब टैक्नीशियन और उपनल के माध्यम से एक फार्मासिस्ट की नियुक्ति पर सहमति प्रदान की। जिलाधिकारी बंसल ने गुरुवार को राजकीय चिकित्सालय के निरीक्षण के दौरान ओपीडी और वार्डों का निरीक्षण किया। इमरजेंसी वार्ड में व्यवस्थाएं ठीक नहीं मिलने पर सीएमएस डॉ. डीएस नेई को व्यवस्थाएं दुरुस्त करने, वार्ड में इमरजेंसी किट व सक्शन मशीन रखने के निर्देश दिए। डीएम ने वार्डों में भर्ती रोगियों से मुलाकात कर मिल रही सुविधाओं की भी जानकारी ली। रोगियों को गुणवत्ता युक्त भोजन कंटेनर में उपलब्ध कराने को कहा। स्टॉक रूम में जाकर दवाओं के स्टॉक की जानकारी लेते हुए मरीजों की संख्या के मद्देनजर एक अतिरिक्त फार्मासिस्ट उपनल के माध्यम से रखने तथा डॉक्टरों को कैपीटल लैटर में जैनेरिक दवाएं ही लिखने के निर्देश दिये। चिकित्सालय में अनधिकृत रूप से पार्क वाहनों का चालान करने करने को कहा। डीएम ने कर्मचारियों की उपस्थिति पंजिका भी जांची। इसके बाद चिकित्सालय प्रबंधन समिति की बैठक में अस्पताल में 2 लैब टैक्नीशियन व उपनल के माध्यम से एक फार्मासिस्ट रखे जाने पर सहमति प्रदान की। उन्होंने अस्पताल में सफाई व्यवस्था एवं खाने की गुणवत्ता के लिए समिति द्वारा निरीक्षण किए जाने को कहा। 3 ऑक्सीजन कंटेनर क्रय करने, नवजात शिशु के लिए इनक्यूवेटर, डेंटल एक्स-रे मशीन क्रय करने सहित विभिन्न प्रस्ताव बैठक में पारित किए गए। इस मौके पर एसडीएम रजा अब्बास, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी योगेश पुरोहित, सीएमएस डॉ. डीएस नेई, डॉ. केके पांडेय, डॉ. आरके सागर, डॉ दीप प्रकाश पार्की, सुकृत साह, दीपक पंत, दीप भगत, कोषाधिकारी पीएन गोस्वामी, राकेश जोशी आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Doctors need to write genetic medicines in capital letter