ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंड अल्मोड़ाअल्मोड़ा जिले को 150 के बजाय मिले सिर्फ 33 डॉक्टर

अल्मोड़ा जिले को 150 के बजाय मिले सिर्फ 33 डॉक्टर

31 मार्च को बॉन्ड पूरा होने के बाद डॉक्टरों की हुई थी छुट्टी अल्मोड़ा में कम हुए 150 महज 33 मिले अल्मोड़ा में कम हुए 150 महज 33...

अल्मोड़ा जिले को 150 के बजाय मिले सिर्फ 33 डॉक्टर
हिन्दुस्तान टीम,अल्मोड़ाSat, 11 May 2024 10:45 PM
ऐप पर पढ़ें

अल्मोड़ा, कार्यालय संवाददाता। जिले के सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य व्यवस्था फिलहाल पटरी पर नहीं आ पाएगी। इसका कारण स्वास्थ्य विभाग की उपेक्षा है। एक साथ 150 डॉक्टरों का बॉन्ड खत्म होने के बाद अब जिले को महज 33 डॉक्टर दिए गए हैं। इससे अब भी अस्पतालों में डॉक्टरों का टोटा बना रहेगा।
जिले में डॉक्टरों के 290 पद स्वीकृत हैं। इनमें से 175 डॉक्टर ही सेवा दे रहे हैं। डॉक्टरों की कमी को पूरा किया जा सके इसके लिए अलग-अलग अस्पतालों में 150 डॉक्टरों की बॉन्ड के माध्यम से तैनाती की गई थी। 31 मार्च को इन डॉक्टरों का बॉन्ड खत्म हो गया था। स्वास्थ्य विभाग ने भरोसा दिलाया था कि इनकी जगह नए डॉक्टरों की तैनाती की जाएगी। 40 दिन तक तैनाती की प्रक्रिया चलती रही। इस दौरान डॉक्टरों के बिना अस्पतालों में मरीजों को परेशानी बढ़ने लगी। अब स्वास्थ्य महानिदेशक के आदेश पर जिले को 33 डॉक्टर मिले हैं, जो 150 के सापेक्ष काफी कम हैं। जिले को इस बार 117 डॉक्टर नहीं मिल पाए हैं। डॉक्टरों की तैनाती नहीं होने से अस्पतालों के संचालन में दिक्कतें आएंगी। हालांकि, स्वास्थ्य विभाग को जल्द ही शेष डॉक्टरों की भी तैनाती होने की उम्मीद है। तब तक अस्पतालों को बिना डॉक्टरों के ही काम चलाना पड़ेगा।

चारधाम ड‌‌्यूटी ने बढ़ाई दिक्कत

पहले से डॉक्टरों की कमी से जूझ रहे अस्पतालों पर चारधाम ड्यूटी की दोहरी मार पड़ी है। जिले से 10 डॉक्टर और 10 फार्मासिस्ट की चारधाम में ड्यूटी लगाई गई है। ये डॉक्टर और फार्मासिस्ट चारधाम के लिए रवाना हो गए हैं। ये डॉक्टर अब चारधाम यात्रा की समाप्ति के बाद ही वापस लौट पाएंगे। इससे अस्पतालों में डॉक्टरों और फार्मासिस्टों की कमी हो गई है।

जिला अस्पताल में जुटी रही भीड़

मौसम में बदलाव से इन दिनों लोगों में वायरल बुखार की शिकायत बढ़ने लगी है। शनिवार को भी जिला अस्पताल में मरीजों की भीड़ जुटी रही। इनमें वायरल, बुखार, खांसी और जुकाम के मरीज ज्यादा थे। भीड़ अधिक होने से मरीजों को पर्ची काउंटर में अपनी बारी के लिए इंतजार करना पड़ा। साथ ही डॉक्टर से मुलाकात में मरीजों को मशक्कत करनी पड़ी।

कोट

जिले में 150 डॉक्टरों का बॉन्ड खत्म हो गया था। निदेशालय से 33 डॉक्टर मिले हैं। शेष डॉक्टरों की भी जल्द तैनाती की उम्मीद है। फिलहाल अस्पतालों में रूटीन के तहत व्यवस्था बनाई गई है।

डॉ. आरसी पंत, सीएमओ अल्मोड़ा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।