After the license fee meeting, the Board member and trade union angry - रानीखेत में व्यापार मंडल और कैंट सभासदों में ठनी DA Image
18 नबम्बर, 2019|2:34|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रानीखेत में व्यापार मंडल और कैंट सभासदों में ठनी

व्यवसायिक लाइसेंस शुल्क निर्धारण को लेकर कैंट की ओर से बुलाई गई व्यापार मंडल व कैंट सभासदों की संयुक्त बैठक के बाद व्यापार मंडल और सभासदों में ठन गई है। व्यापार मंडल ने उक्त बैठक में सभासदों की गैर मौजदूगी पर नाराजगी जताते हुए कई सवाल उठाए थे। व्यापार मंडल पदाधिकारियों का आरोप था कि बैठक में सभासदों की अनुपस्थिति के कारण कैंट की ओर से मनमाने व्यापारिक शुल्क निर्धारण की कार्रवाई की जा रही है, इससे व्यापारियों के हित प्रभावित हुए हैं। इधर, व्यापार मंडल के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कैंट बोर्ड उपाध्यक्ष मोहन नेगी ने कहा कि कैंट की ओर से बुलाई गई उक्त बैठक में संजय पंत, विनोद चंद्र सहित दो सभासद मौजूद थे। छावनी की किसी बैठक में भाग लेने दिल्ली जाने के चलते वह स्वयं बैठक में उपस्थित नहीं हो पाए, लेकिन बैठक में जो भी फैसले लिए गए, उसकी पूरी जानकारी उन्हें कैंट कार्यालय से प्राप्त हो चुकी है। उपाध्यक्ष ने कहा, व्यापार मंडल की ओर से जब भी सभासदों को बैठक में आमंत्रित किया, सभासदों ने उसमें भागादारी करते हुए व्यापारी हित में कदम उठाए हैं। लाइसेंस शुल्क के संबंध में कैंट की धारा 277 को लेकर व्यापार संघ की ओर से बुलाई गई बैठक में भी सभासदों ने प्रतिभाग किया था। यहीं नहीं, गत वर्ष 8 मार्च को व्यापार मंडल, व्यापारियों की आम बैठक में आम सहमति बनने के बाद सभासदों ने 10 मार्च को कैंट बोर्ड की बैठक का तक बहिष्कार कर दिया था। नेगी ने कहा, व्यापार मंडल को आरोप-प्रत्यारोप करने के बजाय समस्या का मिल-जुलकर समाधान निकालना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:After the license fee meeting, the Board member and trade union angry