Accused of defy the court orders - न्यायालय के आदेशों की अवहेलना का आरोप DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

न्यायालय के आदेशों की अवहेलना का आरोप

कुमाऊं वन श्रमिक संघ ने वन विभाग पर न्यायालय के आदेशों की अवहेलना का आरोप लगाया है। संगठन के सदस्यों ने कहा है कि न्यायालय के आदेशों के बाद भी विभाग वरिष्ठता के आधार पर लंबे समय से सेवा दे रहे कर्मचारियों को वन आरक्षी के पदों पर तैनाती नहीं दे रहा है। वन श्रमिक संघ की बैठक में संगठन के अध्यक्ष बसंत बल्लभ ने कहा कि कुमाऊं वन श्रमिक संगठन के सैंकड़ों सदस्य पिछले 40 सालों से विभाग को पूरी ईमानदारी के साथ अपनी सेवाएं देते आए हैं, लेकिन इसके बाद भी विभाग इन कर्मचारियों की उपेक्षा कर रहा है। उन्होंने कहा कि संगठन लंबे समय से वरिष्ठता के आधार पर वन श्रमिकों को वन आरक्षी के पदों पर तैनाती देने की मांग कर रहा है। विभाग उन्हें तैनाती देने के बजाय इन पदों पर तैनाती के लिए सीधी भर्ती आयोजित करा रहा है, जो ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि न्यायालय पूर्व में 10 सप्ताह के अंदर वन श्रमिकों को इन पदों पर तैनाती देने के आदेश दे चुका है। विभाग ने अभी तक न्यायालय के आदेशों का पालन नहीं किया है। बैठक में तय किया गया कि अगर शीघ्र तैनाती को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की गई तो वन श्रमिक फिर से आंदोलन की रणनीति बनाएंगे। बैठक में केवल चंद्र जोशी, मोहन भट्ट, बहादुर सिंह, मोहन जोशी समेत अनेक सदस्य और पदाधिकारी मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Accused of defy the court orders