DA Image
Sunday, November 28, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश वाराणसीमंडुवाडीह के ऑटोमेटिक वॉशिंग प्लांट में शुरू हुई कोचों की धुलाई

मंडुवाडीह के ऑटोमेटिक वॉशिंग प्लांट में शुरू हुई कोचों की धुलाई

हिन्दुस्तान टीम,वाराणसीNewswrap
Wed, 07 Jul 2021 03:32 AM
मंडुवाडीह के ऑटोमेटिक वॉशिंग प्लांट में शुरू हुई कोचों की धुलाई

वाराणसी। कार्यालय संवाददाता

मंडुवाडीह कोचिंग डिपो के ऑटोमेटिक वॉशिंग प्लांट में रेलवे कोचों की धुलाई मंगलवार से शुरू हो गई। पहले दिन शिवगंगा, मंडुवाडीह सुपर फॉस्ट और काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस के 72 डिब्बों की धुलाई-सफाई हुई। खास बात यह कि इन डिब्बों की सफाई में मात्र 30 मिनट ही लगे।

रेल मंत्री ने किया ट्वीट

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने मंगलवार को मंडुवाडीह कोचिंग डिपो में ऑटोमेटिक वाशिंग प्लांट तैयार होने की जानकारी ट्वीटर पर दी। प्लांट से संबंधित एक वीडियो शेयर करते हुए पीयूष गोयल ने लिखा है-‘स्वच्छता और पर्यावरण संरक्षण के लिये भारतीय रेल द्वारा निरंतर कदम उठाये जा रहे हैं, जिसका यह एक उदाहरण है। उत्तर प्रदेश के मंडुवाडीह स्टेशन पर शुरू हुआ ऑटोमेटिक कोच वॉशिंग प्लांट, यहां 24 कोच की ट्रेन की धुलाई 7- 8 मिनट में पूर्ण होती है, जिसमें पानी भी कम लगता है।

पानी की होगी री-साइकिलिंग

इस प्लांट का निर्माण पिछले वर्ष अक्तूबर में शुरू हुआ था। नौ माह में तैयार प्लांट के निर्माण पर 1.71 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। यहां 30 हजार लीटर क्षमता का इंफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट भी लगा है। इससे पानी का दोबारा इस्तेमाल किया जा सकेगा।

डीआरएम विजय कुमार पंजियार ने कहा कि पारंपरिक तरीके से ट्रेनों की सफाई में वक्त के साथ पानी भी अधिक लगता है। इसके बावजूद ट्रेन के डिब्बों की सफाई हाईजनिक ढंग से नहीं हो पाती है। अब समय और पानी दोनों की बचत होगी। सफाई में इस्तेमाल 80 फीसदी पानी को रिसाइकिल कर दोबारा उपयोग लायक बनाया जाएगा।

वरिष्ठ मंडल इंजीनियर यांत्रिक एसपी श्रीवास्तव के मुताबिक इस प्लांट से एक दिन में ट्रेन के करीब 250 डिब्बे साफ हो सकेंगे। कम पानी, साबुन का प्रयोग किया जाएगा जो कि पर्यावरण के अनुकूल होगा। बाहर लगने वाले सफाई कर्मियों को अब केवल कोच के अंदर की सफाई में लगाया जाएगा।

सेंसर से काम करता है प्लांट

मंडुवाडीह कोचिंग डिपो अधिकारी एसके सिंह ने बताया कि प्लांट में लगा सेंसर कंट्रोल पैनल से जुड़ा रहता है। यह सेंसर सभी ब्रश यूनिट पानी के कालम, डिटर्जेंट कालम, ब्वायलर, एयर कम्प्रेशर आदि को सक्रिय करता है। कोच के सामने आते ही प्लांट चालू हो जाता है। ब्रश यूनिट तेजी से रोटेड करते हुए कोच को रगड़ता है। साफ्ट व री- क्लैम्ड वाटर, डिटर्जेंट साल्यूशनन ब्लोअर आदि भी ऑटोमेटिकली काम करने लगते हैं।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें