DA Image
27 नवंबर, 2020|5:16|IST

अगली स्टोरी

वाराणसी: वेतन के लिए फैक्ट्री कर्मचारियों का हंगामा, महिलाओं की पुलिस से हाथापाई

वाराणसी में रामनगर औद्योगिक क्षेत्र फेज एक स्थित एक बिस्किट बनाने वाली फैक्ट्री के कर्मचारियों ने मंगलवार को वेतन न दिए जाने का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया। कर्मचारियों का कहना है कि फैक्ट्री मालिक ने अप्रैल में काम पर ना आने वाले मजदूरों की तनख्वाह काट ली है। जबकि कई मजदूर फैक्ट्री आना चाह रहे थे लेकिन पुलिस ने उन्हें आने से मना कर दिया था।

अपनी शिकायत को लेकर इन मजदूरों ने फैक्ट्री के सामने धरना भी दिया और फैक्टरी प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी की। लगभग 200 की संख्या में मजदूरों ने विरोध जताया। हंगामे के चलते मौके पर पुलिस भी पहुंची और उन्हें समझाने का प्रयास किया लेकिन मजदूर नहीं मानें। पुलिस और मजदूरों के बीच नोकझोंक भी हुई।

इसी दौरान मजदूर नेता राम नरेश यादव को जब पुलिस ने गिरफ्तार करने की कोशिश की तो मौके पर मौजूद महिला मजदूरों ने पुलिस के साथ हाथापाई की और विरोध जताया। मजदूरों की मांग थी कि कंपनी मालिक द्वारा वेतन का 50 फीसदी हिस्सा दिया जाय, जिससे परिवार का भरण पोषण हो सके।

मजदूरों का कहना था कि 12 घंटे काम के बदले 200 रुपये देते है। एक दिन न आने पर 800 रुपये काट लेते हैं। मजदूरों ने कंपनी पर मनमानी का आरोप लगाया। फैक्ट्री में प्रोडक्शन मैनेजर ने बताया कि फैक्ट्री सभी दिन चलती थी। साधन भेजने के बाद भी ये मजदूर नहीं आते थे। इसलिए इनका वेतन काटा गया। सोमवार शाम इन लोगों ने हंगामा कर फैक्ट्री बन्द कर दी थी। इससे बहुत नुकसान हुआ। 

वही मजदूर रामनरेश यादव का कहना था कि फैक्ट्री द्वारा किसी भी प्रकार की कोई भी व्यवस्था आने जाने के लिए नहीं दी जाती थी। लॉकडाउन में हम लोगों के सामने फैक्ट्री तक पहुंचने की समस्या थी। मालिक फैक्ट्री में ही मजदूरों को रखकर फैक्ट्री नही चलाना चाहते थे। रामनगर औद्योगिक एसोसिएशन के अध्यक्ष देव भट्टाचार्य भी मौके पर पहुंचे और उन्होंने मजदूरों से 2 दिन के अंदर मामला सुलझालेने का आश्वासन दिया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Varanasi uproar by factory workers for salary women gheraoed on arrest of labor leader