DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वाराणसीः बैराजों से छोड़े गए पानी का असर, गंगा में फिर तेज बढ़ाव 

बैराजों से छोड़े गए पानी और गंगा-यमुना के अप स्ट्रीम में लगातार हो रही बारिश के चलते गंगा में बढ़ाव जारी है। अस्सी से राजघाट के बीच सभी पक्के घाटों का आपसी संपर्क टूट चुका है। जलस्तर में दो सेंमी प्रति घंटे की दर से वृद्धि हो रही है। बढ़ाव की प्रवृत्ति अगले 24 घंटे तक जारी रहने का संकेत है। इसे देखते हुए अनुमान है कि गुरुवार शाम तक गंगा दशाश्वमेध स्थित शीतला मंदिर के द्वार तक पहुंच जाएंगी। शीतला मंदिर में गंगा जल का प्रवेश काशी की सेहत की दृष्टि से शुभ माना जाता है। 

केंद्रीय जल आयोग के अनुसार बुधवार सुबह काशी में गंगा का जलस्तर 63.88 मीटर दर्ज किया गया। यह सामान्य जलस्तर से करीब सात मीटर और बीते 24 घंटों की तुलना में 50 सेमी अधिक है। बुधवार रात आठ बजे तक गंगा में बढ़ाव की गति दो सेमी. प्रतिघंटा रही। गंगा के अप स्ट्रीम में शाहजादपुर और फाफामऊ में बढ़ाव की गति यथावत है। लेकिन प्रयाग और उससे आगे सीतामढ़ी, मिर्जापुर होते हुए बनारस तक जलस्तर में तेज गति से वृद्धि हो रही है। बीते 24 घंटों में प्रयागराज के जलस्तर में 29सेमी, सीतामढ़ी में 48 सेमी और मिर्जापुर में 50 सेमी. की वृद्धि दर्ज की गई है। गाजीपुर और बलिया में भी गंगा में बढ़ाव जारी है। 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Varanasi The impact of the water released from the barrages the rapid rise in the Ganges again