DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  वाराणसी  ›  दसवीं की छात्रा के साथ दरिंदगी, रेप के बाद तेजाब से जलाया, सड़क पर उतरे लोग
वाराणसी

दसवीं की छात्रा के साथ दरिंदगी, रेप के बाद तेजाब से जलाया, सड़क पर उतरे लोग

भदोही निज संवाददाताPublished By: Yogesh Yadav
Wed, 19 Aug 2020 02:21 PM
दसवीं की छात्रा के साथ दरिंदगी, रेप के बाद तेजाब से जलाया, सड़क पर उतरे लोग

भदोही में दसवीं की छात्रा के साथ दर्दनाक वारदात को अंजाम दिया गया है। छात्रा को अगवा कर रेप करने के बाद पहचान छिपाने के लिए तेजाब से जला दिया गया। इसके बाद शव को वरुणा नदी में फेंक दिया गया। बुधवार की सुबह छात्रा का शव उतराया मिलने पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। बड़ी संख्या में लोग जौनपुर-भदोही मार्ग पर उतर गए। मौके पर एसपी रामबदन सिंह भी पहुंचे और लोगों को समझाने की कोशिश की। करीब दो घंटे बाद जाम समाप्त हो सका। 

शहर कोतवाली के एक गांव की 16 वर्षीय किशोरी सोमवार की शाम वरुणा किनारे मवेशियों को चराने गई थी। उसके साथ 12 वर्षीय छोटी बहन भी थी। छोटी बहन भोजन करने के लिए घर आई और करीब 20 मिनट बाद लौटी तो बड़ी बहन गायब थी। उसने घर वालों को इसकी जानकारी दी। घर वाले किशोरी की खोजबीन में जुट गए।

देर शाम तक कुछ पता नहीं चला तो रात में ही पुलिस को जानकारी दी गई। पड़ोसी गांव के ईंट भट्टा मालिक पर शक जताया गया। अगले दिन मंगलवार को भी छात्रा का कुछ पता नहीं चलने पर लोगों ने धौरहरा चौकी पर विरोध प्रदर्शन किया। पुलिस ने आधे घंटे बाद किसी तरह समझाकर सभी को वापस भेजा।

इसी बीच बुधवार की सुबह छात्रा का शव वरुणा नदी में उतराया मिला तो सनसनी फैल गई। छात्रा के शरीर पर केवल पहले से पहनी हुई काले रंग की जिंस पैंट थी। उसका चेहरा और कमर के ऊपर के हिस्से को तेजाब से बुरी तरह जलाया गया था। शव देखने से साफ लग रहा था कि छात्रा के साथ दरिंदगी करने के बाद पहचान छिपाने के लिए जलाया गया और वरुणा नदी में फेंक दिया गया है।

शव देखते ही पुलिस के खिलाफ लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। लोगों ने भदोही-जौनपुर मार्ग पर सिधवन गांव के पास चक्काजाम कर दिया। जाम की खबर मिलते ही बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स पहुंच गई। लोगों का गुस्सा बढ़ता देख एसपी रामबदन सिंह और फोरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंची। 

पहचान छिपाने को जलाया शव : एसपी
एसपी राम बदन सिंह ने बताया कि क्राइम ब्रांच, शहर कोतवाली, सुरियावां पुलिस समेत चार टीमें लगाई गई हैं। दावा किया कि प्रकरण का खुलासा करते हुए आरोपितों को दबोच लिया जाएगा। एसपी ने बताया कि शव की हालत देखने से लग रहा है कि हत्या के बाद पहचान छिपाने के लिए शव जलाया गया है। दुराचार के बाबात उन्होंने पीएम रिपोर्ट के बाद स्थिति स्पष्ट होने की बात कही। उधर, प्रभारी कोतवाल सीके पुरी ने बताया कि शव कब्जे में लेकर पीएम को भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद मुकदमे में धाराएं बढ़ा दी जाएंगी।

महिलाओं ने रोका शव वाहन का रास्ता
भदोही। करीब ढाई घंटे की मशक्कत, विरोध के बाद एसपी के समझाने पर ग्रामीण माने। उसके बाद पुलिस ने ढाई बजे शव को कब्जे में लिया। वाहन में लादकर कुछ ही दूर बढ़े थे कि मृतका के घर के पास महिलाओं ने रास्ता रोक दिया। वे डॉग स्क्वायड मौके पर बुलाने की मांग कर रही थी। आधे घंटे के बाद डॉग स्क्वायड पहुंचा, उसके बाद पुलिस शव को कोतवाली लाई। इस दौरान महिलाएं ईंट कारोबारी समेत चार लोगों को घटना के लिए जिम्मेदार ठहरा रही थीं। 

आरोपियों को बचाने का पुलिस पर लगाया आरोप
शव मिलने के बाद आक्राशित लोगों ने भदोही-जौनपुर मार्ग पर करीब ढाई घंटे तक जाम लगाया। एसपी के सामने ही नारेबाजी करने लगे। खदेड़ने पर उन्होंने भदोही-जौनपुर मार्ग (दुद्धी-लुंबिनी मार्ग) को करीब ढाई घंटे तक जाम कर दिया। जिससे आवागमन बाधित रहा। परिजनों को आरोप है कि किशोरी के गायब होने के कुछ ही घंटों बाद परिजनों ने धौरहरा चौकी पुलिस को मामले की जानकारी दी थी। छोटी बहन की निशानदेही पर दो आरोपितों को हिरासत में लिया भी गया था। जिन्हें बाद में पुलिस ने छोड़ दिया। 

चार लोगों पर पर लगाए आरोप लेकिन नहीं हुई कार्रवाई
मंगलवार दोपहर में ग्रामीणों ने चौकी के पास सड़क जाम कर पुलिस पर मामले की लीपापोती व आरोपितों को बचाने का आरोप लगाया था। किशोरी के पिता ने चार लोगों का नाम पुलिस को दिया था, जिसमें एक ईंट भट्ठा संचालक, गांव निवासी एक युवक, पड़ोसी गांव निवासी एक अधेड़ भी शामिल है लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। शव मिलने के बाद  परिजनों ने चारों लोगों पर रेप करने और बेटी को जलाने को  फिर आरोप लगाया है। परिजनों के आरोप के बाद एसपी ने पुलिस की भूमिका की भी जांच कराने की बात ग्रामीणों से कही। 

पिता बेसुध, मां व बहन अचेत
भदोही। उक्त गांव निवासी 10वीं के छात्रा के पिता कालीन मजदूरी कर किसी तरह बच्चों की परिवरिश करते हैं। बेटी की निर्मम हत्या के बाद बुधवार को शव मिलने के बाद वे बेसुध दिखे। मां व मवेशी चराने साथ गई छोटी बहन रोते-रोते वरुणा नदी किनारे अचेत हो गई। मृत छात्रा पांच बहनों में चौथे नंबर पर थी। जबकि तीन भाईयों में सबसे छोटी।

शव मिलने वाले स्थान पर ही मंडराता रहा कुत्ता
ग्रामीण व परिजन डॉग स्क्वायड बुलाने की जिद पर अड़े थे। करीब साढ़े तीन बजे वाहन से टीम पहुंचे। मृतका के घर, खेत में जाने के बाद कुत्ते को छोड़ा गया। इधर-उधर घूमने के बाद वह जहां शव मिला था, वहीं पर जाकर रुका गया। ऐसे में टीम के हाथ कोई सुराग नहीं लगे। बता दें कि शव मिलने के बाद नदी किनारे हजारों की तादात में ग्रामीण पहुंच गए थे। 


 

 

 

संबंधित खबरें