DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  वाराणसी  ›  बाजार बंद करना है तो टैक्स माफ हो

वाराणसीबाजार बंद करना है तो टैक्स माफ हो

हिन्दुस्तान टीम,वाराणसीPublished By: Newswrap
Tue, 25 May 2021 03:20 AM
बाजार बंद करना है तो टैक्स माफ हो

वाराणसी। कार्यालय संवाददाता

महानगर उद्योग व्यापार समिति की वर्चुअल बैठक में सोमवार व्यापारियों ने कहा कि कोरोना कर्फ्य में करीब 70 फीसदी दुकानें खुल गई हैं तो 30 प्रतिशत अन्य प्रतिष्ठानों को न खोलने का निर्णय समझ से परे है। समिति ने प्रदेश सरकार से व्यापार बंद रहने की स्थिति में सभी टैक्स, बैंक ब्याज, बिजली के बिल व फिक्स्ड चार्ज माफ करने की मांग की है। समिति ने 28 मई तक लगातार वर्चुअल बैठक कर आक्रोश जताने व मांगें रखने की बात कही है।

संरक्षक श्रीनारायण खेमका व अध्यक्ष प्रेम मिश्रा ने कहा कि रोडवेज, रेलवे स्टेशन, बैंक, शराब की दुकानें आदि प्रतिष्ठान खुले हैं। क्या वहां संक्रमण का खतरा नहीं है। दी स्मॉल इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेश भाटिया व महासचिव नीरज पारिख ने कहा कि उद्योगों को चलाने की इजाजत तो है लेकिन जब अधिकांश बाजार बंद रहेंगे तो सामानों की खपत कहां होगी। पूर्वांचल रियल एस्टेट एसोसिएशन के चेयरमैन अनुज डिडवानिया, अध्यक्ष आरसी जैन ने कहा कि निर्माण क्षेत्र में कच्चा माल नहीं मिलने से कार्य प्रभावित है। इस दौरान बनारस होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष गोकुल शर्मा, वाराणसी ऑटोमोबाइल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष यूआर सिंह, रामनगर व्यापार मंडल के अध्यक्ष राकेश जायसवाल, काशी रेडीमेड गारमेंट्स एसोसिएशन के संरक्षक अशोक जायसवाल, अध्यक्ष शैलेष जायसवाल, समिति के उपाध्यक्ष सोमनाथ विश्वकर्मा, सुरेश तुलस्यान, समीर नंदन गुप्ता, सीए सुदेशना बसु, रजनीश कनौजिया, अजय गुप्ता, दिलीप तुलसियानी, आकाशदीप गुप्ता, अंजनी कुमार मिश्रा, विजय मेहरोत्रा, ओमप्रकाश गुप्ता मौजूद रहे।

सभी बानों को मिले छूट

काशी व्यापार प्रतिनिधि मण्डल ने शासन से सभी बानों की दुकानों को खोलने की मांग रखी है। अध्यक्ष राकेश जैन ने कहा कि जीविका बिना परिवार चलाना मुश्किल हो गया है। 31 मई तक बंदी बढ़ा दी है। लेकिन जिस प्रकार प्रशासन ने आवश्यक वस्तुओं के साथ इलेक्ट्रॉनिक्स, इलेक्ट्रिकल व बिल्डिंग मैटेरियल्स आदि की दुकानों को खोलने की छूट दी है, उसी प्रकार सभी बानों के दुकानों को सुबह 6 से 12 बजे व दोपहर 1 से शाम 7 बजे तक दो शिफ्ट में खोलने में आखिर क्या हर्ज है।

संबंधित खबरें