DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्रिज हादसा : सेतु निगम के एमडी ने माना, लापरवाही से हुआ हादसा

ट्रैफिक डायवर्जन न करने पर प्रशासन को भी कटघरे में खड़ा किया

सेतु निगम के प्रबंध निदेशक राजन मित्तल ने स्वीकार किया है कि निगम के अधिकारियों की लापरवाही के चलते मंगलवार को चौकाघाट फ्लाईओवर हादसा हुआ। उन्होंने कहा कि मॉनीटरिंग के स्तर पर भी चूक हुई है। साथ ही, एमडी ने निर्माणाधीन फ्लाईओवर के नीचे ट्रैफिक डायवर्जन न होने पर जिला प्रशासन को भी कटघरे में खड़ा किया है। 

बुधवार को घटनास्थल का निरीक्षण करने पहुंचे एमडी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि हादसे के पीछे प्रथम दृष्टया बेयरिंग फेल होने बात सामने आयी है। उन्होंने बताया कि फरवरी में शटरिंग लगी थी। उसके बाद से अधिकारियों की मानीटरिंग में कहीं कमी जरूर रही होगी। वहीं, पिछले दिनों आयी आंधी के बाद भी शटरिंग चेक की जानी चाहिए थी। 

एमडी ने कहा कि बीम के बीच खाली जगह को सेतु निगम के अफसर नहीं देख पाए होंगे। यह भी संभावना जतायी कि क्रॉस बीम से कनेक्ट करने वाला लॉक टूटा गया होगा। इसके अलावा दोनों बीम के बीच में गैप हो गया होगा। इसके चलते अचानक बेयरिंग हटाने पर एक बीम टूटी और नीचे आ गिरी। एक बीम खिसकी तो उसके दबाव में दूसरी भी नीचे गिर पड़ी। 

पत्रों पर प्रशासन ने नहीं दिया ध्यान 
सेतु निगम के एमडी ने अपने विभाग के साथ जिला प्रशासन को भी हादसे के लिए जिम्मेदार बताया। कहा कि सेतु निगम ने ट्रैफिक कंट्रोल के लिए जिला प्रशासन को कई पत्र लिखे थे लेकिन जिला प्रशासन ने इन पत्रों पर कभी ध्यान नहीं दिया। 

सेतु निगम के अधिकारी-कर्मचारी एक दिन का वेतन देंगे 
सेतु निगम के सभी 4500 कर्मचारी और अधिकारी अपने एक दिन की सेलरी वाराणसी हादसे के पीड़ितों और मृतकों के परिवार को देंगे। निगम के प्रबंध निदेशक राजन मित्तल ने सभी इंजीनियरों और कर्मचारियों की सहमति से हुए इस फैसले की जानकारी दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Setu Nihams MD admitted incidents is negligent