DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  वाराणसी  ›  बेटी की मौत के मामले में पंडित छन्नू लाल मिश्रा से मिलने पहुंची जांच टीम, सीएम योगी ने दिया था आश्वासन

वाराणसीबेटी की मौत के मामले में पंडित छन्नू लाल मिश्रा से मिलने पहुंची जांच टीम, सीएम योगी ने दिया था आश्वासन

हिन्दुस्तान टीम,वाराणसीPublished By: Newswrap
Fri, 11 Jun 2021 06:54 PM
बेटी की मौत के मामले में पंडित छन्नू लाल मिश्रा से मिलने पहुंची जांच टीम, सीएम योगी ने दिया था आश्वासन

मुख्यमंत्री के आदेश पर बनी राज्यस्तरीय जांच कमेटी ने शुक्रवार को पद्मविभूषण पं. छन्नूलाल मिश्र से मुलाकात की और उनकी बेटी संगीता मिश्र की मौत प्रकरण में उनका पक्ष जाना। करीब एक घंटे तक हुई बातचीत में कमेटी ने उनकी छोटी बेटी नम्रता मिश्रा से भी विभिन्न बिंदुओं पर चर्चा की। उल्लेखनीय है कि कोरोना से संक्रमित संगीता मिश्र की 29 अप्रैल को एक निजी अस्पताल में मौत हो गई थी। परिजनों ने अस्पताल पर उपचार में लापरवाही का आरोप लगाया था।

स्थानीय स्तर पर टीम में शामिल डॉ. वाईके त्रिपाठी और डॉ. सुजीत ने मिश्र परिवार को अपना परिचय दिया जबकि शेष अधिकारी बिना परिचय दिए पिता-पुत्री की बातों को गौर से सुनते रहे। महत्वपूर्ण बातें नोट करते रहे। कुछ बिंदुओं पर वे मिश्र परिवार से सहमत भी नजर आए। उपचार के दौरान हुई लापरवाहियों को दल के कुछ सदस्यों ने कोविड-19 उपचार के लिए जारी गाइडलाइंस का उल्लंघन भी माना। जांच दल के सदस्यों ने सारे दस्तावेजों की फोटो कॉपी ली। इनमें उन अस्पतालों की सूची भी है जिन्हें कोविड-19 के उपचार में मानकों के उल्लंघन और धनउगाही के आरोप में प्रशासन ने नोटिस दी थी। जांच दल ने संगीता मिश्रा की मृत्यु से कुछ दिन पूर्व से मृत्यु तक की तस्वीरें भी ली हैं।

पं. छन्नूलाल मिश्र ने कहा, हमें प्रसन्नता है कि जांच दल ने हमारा पक्ष सुनना जरूरी समझा। जांच की शुरुआत हमारा पक्ष सुनने से हुई। यही पहले नहीं हुआ था। दल ने आश्वस्त किया है कि पूर्व में गठित जांच कमेटी के सदस्यों और अस्पताल का पक्ष जानने के बाद जल्द वे अपनी रिपोर्ट सीएम को सौंप देंगे।

पं. छन्नूलाल ने सीएम से की थी मुलाकात

संगीता मिश्र प्रकरण की जांच के लिए गठित कमेटी के निष्कर्षों से असहमत व असंतुष्ट पं. छन्नूलाल मिश्र और उनकी पुत्री नम्रता मिश्र पिछले दिनों बनारस आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से सर्किट हाउस में मुलाकात की थी। पं. छन्नूलाल ने भावुक होते हुए पूरा प्रकरण बताया था। मुख्यमंत्री ने उसी समय निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया था।

संबंधित खबरें