ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश वाराणसीपीतल बर्तन उद्योग पर कम हो कर का बोझ

पीतल बर्तन उद्योग पर कम हो कर का बोझ

बनारस ब्रास मर्चेन्ट एंड मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के ठठेरीबाजार स्थित नये कार्यालय के शुभारंभ पर रविवार को हुई गोष्ठी में पीतल बर्तन उद्योग से...

पीतल बर्तन उद्योग पर कम हो कर का बोझ
हिन्दुस्तान टीम,वाराणसीMon, 04 Dec 2023 02:30 AM
ऐप पर पढ़ें

वाराणसी। बनारस ब्रास मर्चेन्ट एंड मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के ठठेरीबाजार स्थित नये कार्यालय के शुभारंभ पर रविवार को हुई गोष्ठी में पीतल बर्तन उद्योग से अप्रत्यक्ष कर का बोझ कम करने की मांग उठी।
अध्यक्ष हरिप्रसाद केशरी एवं महामंत्री अंकित रस्तोगी ने कहा कि पीतल के बर्तनों पर 12 प्रतिशत जीएसटी है जिसे कम करके 5 प्रतिशत की श्रेणी में रखना चाहिए। इस व्यापार से जुड़े कारखानों के स्क्रैप की जीएसटी 18 प्रतिशत की जगह 5 प्रतिशत की जाए ताकि बनारस का यह कुटीर उद्योग जिन्दा रहे।

पदाधिकारियों के अनुसार, एसोसिएशन के भवन का निर्माण 1960 में व्यवसायी स्व. रघुनाथ दास रस्तोगी, बसन्तलाल, रामशरण लाल रस्तोगी, रघुनाथ प्रसाद कसेरा, गोविन्द दास, महावीर प्रसाद ने करवाया था। उस समय इस व्यापार के प्रोत्साहन लिए सरकार से कई योजनाएं मिलती थीं। कारीगरों को स्क्रैप पर सब्सिडी मिलती थी। व्यापारियों ने कहा कि सूबे के राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार डॉ. दयाशंकर मिश्रा दयालु के माध्यम से शासन को मांगपत्र भेजा गया है। इस दौरान महानगर उद्योग व्यापार समिति के अध्यक्ष प्रेम मिश्रा, महामंत्री अशोक जायसवाल, युवा अध्यक्ष मनीष चौबे को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में अनिल रस्तोगी, सुशील रस्तोगी, मनोज सिंह कसेरा, श्याम रस्तोगी, सोनू रस्तोगी, शीतल प्रसाद, रामचन्द्र प्रसाद, आनन्द केशरी आदि मौजूद थे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें