DA Image
27 नवंबर, 2020|1:24|IST

अगली स्टोरी

रामलीला : सूर्पणखा की कटी नाक, युद्ध को निकले खर-दूषण

रामलीला : सूर्पणखा की कटी नाक, युद्ध को निकले खर-दूषण

श्री आदि रामलीला लाटभैरव वरुणा संगम की प्रख्यात नक्कटैया रविवार को उल्लासपूर्ण वातावरण में हुई। नक्कटैया का जुलूस परंपरागत ढंग से विश्वेश्वरगंज से उठकर अंबिया मंडी, हनुमान फाटक, लाटभैरव होते हुए सरैया पहुंची जहां खरदूषण वध के बाद सीता हरण की लीला हुई।

जुलूस के आगे बाजे-गाजे के साथ सूर्पणखा, खर एवं दूषण के पुतले थे। साथ में हाथी, घोड़े व ऊंट का झुंड, तलवार भांजते काली के स्वरूप, बैंड, शहनाई आदि के कई समूह थे। जुलूस में गणमान्य लोग भी थे। दर्जनों लाग, विमान व स्वांग आदि थे। इनमें नाग नथैया, कृष्ण सुदामा मिलन, भामा रुक्मिणि, संभासुर वध, काली तांडव, ताड़का वध, गोबर्धन पूजा, साईं बाबा, महिषासुर मर्दिनी के झांकियों की लोगों ने सराहना की। जुलूस में लगभग 400 वर्ष पुराने बुढ़िया-बुढ़वा के चेहरे बच्चे-बड़ों के आकर्षण के केंद्र रहे। जुलूस मार्ग भी आकर्षक ढंग से सजा था। शोभायात्रा का संयोजन समिति के अध्यक्ष डा. रामअवतार पाण्डेय, उपाध्यक्ष मनोज यादव, प्रधानमंत्री एडवोकेट कन्हैया लाल यादव, नक्कटैया संयोजक संदीप सिंह स्वर्णकार, केवल कुशवाहा, दयाशंकर त्रिपाठी, बृजेन्द्र यादव ने किया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ramlila The cut nose of Suryapacha the war came out of the ruins