अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

VIDEO- मंडुवाडीह रेल क्रासिंग बंद करने का विरोध, रोकी ट्रेन

ओवरब्रिज के लोकार्पण के बाद क्रासिंग बंद करने पहुंचे थे रेलवे के कर्मचारी

1 / 5ओवरब्रिज के लोकार्पण के बाद क्रासिंग बंद करने पहुंचे थे रेलवे के कर्मचारी

मंडुवाडीह रेल क्रासिंग बंद करने का विरोध,

2 / 5मंडुवाडीह रेल क्रासिंग बंद करने का विरोध,

ट्रैक पर ही जुटे सैकड़ों लोग

3 / 5ट्रैक पर ही जुटे सैकड़ों लोग

मंडुवाडीह रेल क्रासिंग बंद करने का विरोध, रोकी ट्रेन

4 / 5मंडुवाडीह रेल क्रासिंग बंद करने का विरोध, रोकी ट्रेन

मंडुवाडीह क्रॉसिंग पर रेल रोककर प्रदर्शन करते स्थानीय लोग

5 / 5मंडुवाडीह क्रॉसिंग पर रेल रोककर प्रदर्शन करते स्थानीय लोग

PreviousNext

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों मंडुवाडीह रेल ओवरब्रिज के लोकार्पण के बाद समपार संख्या 3ए के बंद कर दिये गये क्रॉसिंग के विरोध में मंगलवार को सैकड़ों लोग ट्रैक पर उतर आये। आधी रात से ही रणनीति तैयार कर सुबह करीब साढ़े सात बजे बंद क्रॉसिंग को पारकर मेन लाइन पर बैठ गये। मेन लाइन पर लोहे का गार्डर और पत्थर आदि रखकर बाधित कर दिया। रेल और प्रशासनिक अफसरों के आश्वासन पर दोपहर 12.12 बजे लोग ट्रैक से हटे। इसके बाद आउटर पर पौने दो घंटे तक खड़ी विभूति एक्सप्रेस आगे जा सकी। विभूति के अलावा तीन अन्य ट्रेनें भी प्रभावित हुईं। उधर, मंडुवाडीह आरपीएफ ने आठ नामजद और ढाई सौ अज्ञात के खिलाफ रेलवे एक्ट की चार धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। 

सुबह साढ़े सात बजे जब स्थानीय लोगों द्वारा ट्रैक जाम करने की सूचना रेल अफसरों को मिली तो भागकर मंडुवाडीह क्रॉसिंग पहुंचे। पहले जीआरपी, आरपीएफ और मंडुवाडीह स्टेशन निदेशक सीपी सिंह ने लोगों को समझाने की कोशिश की। बात नहीं बनी तो मौके पर वाराणसी मंडल के प्रभारी सुरक्षा आयुक्त जितेंद्र श्रीवास्तव, सहायक सुरक्षा आयुक्त दयाशंकर, एडीएआरएम वीके श्रीवास्तव, प्रशासनिक अधिकारी एसीएम चतुर्थ सुशील कुमार गौड़, भेलूपुर सीओ एपी सिंह समेत करीब दो सौ की संख्या में आरपीएफ, जीआरपी और पुलिस के लोग मौके पर पहुंचे। सुबह मंडुवाडीह से चलकर भटनी पहुंचने वाली पैसेंजर ट्रेन 55122 को स्टेशन पर ही रोकना पड़ा। अधिकारियों ने प्रदर्शन कर रहे लोगों को कई बार समझाकर हटाया तो एक घंटे 15 मिनट बाद 9.55 बजे इसे रवाना किया जा सका। इसके बाद फिर से ट्रैक जाम कर दिया।

इस दौरान 10.30 बजे इलाहाबाद के लिए जा रही विभूति एक्सप्रेस आउटर पर आकर खड़ी हो गई। प्रदर्शन कर रहे लोगों ने उसे आगे नहीं बढ़ने दिया। ट्रेन के इंजन पर चढ़कर प्रदर्शन करने लगे। आरपीएफ और पुलिस ने लोगों को ट्रेन के इंजन से दूर किया। इसके बाद दोपहर 12 बजे रेल अफसरों की प्रशासनिक अधिकारियों से बात हुई। प्रशासनिक अधिकारियों ने तात्कालिक तौर पर रास्ता खुलवाने के लिए कहा। इसके बाद लोगों को हटाकर 12.12 बजे विभूति एक्सप्रेस रवाना की गई और रेलवे क्रॉसिंग खोल दी गई। रेलवे क्रॉसिंग को खोलने या बंद रखने का निर्णय रेल अफसर प्रशासनिक अधिकारियों से वार्ता के बाद लेंगे। विभूति और मंडुवाडीह-भटनी पैसेंजर के अलावा हरदत्तपुर स्टेशन पर इलाहाबाद-मऊ डेमू 9.15 से 10.05 बजे तक और नई दिल्ली-मंडुवाडीह सुपरफास्ट एक्सप्रेस 11.10 से 12.35 बजे तक खड़ी रही। शिवगंगा एक्सप्रेस भी वाशिंग लाइन में दो घंटे की देरी से ले जाई जा सकी। आउटर में पौने दो घंटे तक खड़ी विभूति एक्सप्रेस के यात्री परेशान रहे। कड़ी धूप में खड़ी ट्रेन से यात्री उतर-उतर कर प्रदर्शन स्थल तक पहुंचते रहते।

रेलवे क्रॉसिंग बंद करवाने के लिए जिला प्रशासन की ओर से अभी सहयोग नहीं मिल सका है। फिलहाल क्रॉसिंग से पहले की तरह लोगों का आवागमन होता रहेगा। 
- वीके श्रीवास्तव, एडीआरएम, वाराणसी मंडल, पूर्वोत्तर रेलवे

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Protest against closure of Manduwadih rail crossing stop train