DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

UP board result: हाईस्कूल में निजी विद्यालयों ने फिर बाजी मारी

बोर्ड परीक्षा : हाईस्कूल में निजी विद्यालयों ने फिर बाजी मारी

यूपी बोर्ड परीक्षा में निजी कालेजों का ही दबदबा रहा। जिले में हाईस्कूल परीक्षा की टॉप टेन की सूची से यह स्पष्ट है। सूची में शामिल 18 बच्चों में सिर्फ चार बच्चे ही राजकीय और अनुदानित कॉलेज के हैं। अन्य सभी छात्र निजी या स्ववित्तपोषित स्कूलों के हैं। इनमें ज्यादातर ग्रामीण क्षेत्र के हैं। इंटर के टॉप टेन में थोड़ा सा फर्क है। इसमें राजकीय और स्ववित्तपोषित विद्यालयों के छात्रों की संख्या कुछ अधिक है। इसके बावजूद निजी विद्यालयों के छात्र हावी रहे। 

परीक्षा के दौरान यह कहा जा रहा था कि इस बार की कड़ाई से मेरिट में सराकरी और अनुदानित कालेज के छात्रों का प्रतिनिधित्व बढ़ेगा मगर ऐसा हुआ नहीं। निजी विद्यालयों में बीएसआईसी सारनाथ, धर्मचक्र विहार इंटर कालेज, स्वामी श्रद्धानंद इंटर कॉलेज, श्रीप्रकाश इंटर कॉलेज, दीपराज इंटर कॉलेज (कटारी), स्वामी श्रद्धानंद इंटर कॉलेज, विद्या विहार इंटर कॉलेज, विकास इंटर कॉलेज जैसे विद्यालयों ने अपना दबदबा कायम रखा है। 

सरकारी क्षेत्र के विद्यालयों में क्वींस कालेज, आर्य महिला इंटर कॉलेज, सनातन धर्म इंटर कालेज, निवेदिता शिक्षा सदन इंटर कॉलेज, एंग्लो बंगाली इंटर कालेज, बंगाली टोला इंटर कालेज, रानी मुरार बालिका इंटर कॉलेज आदि विद्यालयों के छात्र-छात्राओं ने बेहतर प्रदर्शन किया है। यूपी इंटर कॉलेज के छात्र जिले के टॉप टेन की सूची में अपना स्थान नहीं बना सके। प्यारी देवी इंटर कॉलेज के छात्र इमरान ने पिछली बार हाईस्कूल की परीक्षा में जिले में पहला स्थान प्राप्त किया था। इसी कालेज की छात्रा आकांक्षा सिंह ने इस बार 12वीं में जिले में 10वां स्थान प्राप्त किया है। लगातार बेहतर प्रदर्शन करने वाले विद्यालयों के ही बच्चे टॉप-टेन की मेरिट सूची में आ रहे हैं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Private colleges have been dominated by UP board exams