DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रवासी भारतीय सम्मेलन: साढ़े पांच सौ परिवारों में ठहरेंगे प्रवासी मेहमान

बनारस आ रहे प्रवासी मेहमान काशी के आतिथ्य भाव से रूबरू होंगे। घर की तरह उन्हें खाना मिलेगा। शाम को परिवार के साथ बैठकर बात करेंगे। कुछ अपने पुरखों की गाथा सुनाएंगे तो कुछ काशी की सांस्कृतिक विरासत के बारे में भी जानेंगे। ऐसा इसलिए कि काशीवासियों ने प्रवासी मेहमानों को अपने घरों में ठहराने का निर्णय लिया है। अब तक करीब साढ़े पांच सौ परिवार आगे आए हैं और प्रवासी मेहमानों को अपने घरों में ठहराने के लिए जिला प्रशासन को आवेदन दिया है। ऐसा पहली बार होने जा रहा है कि जब बिना किसी स्वार्थ के काशीवासी इन मेहमानों को अपने घरों में तीन दिनों तक ठहराकर पूरी दुनिया को सौहार्द्र, संस्कृति, आतिथ्य भाव का नया संदेश देंगे। वैसे देखा जाए तो प्रशासन की अपील पर इतनी बड़ी संख्या में लोगों का किसी विदेश मेहमान को अपने घर में ठहराने के लिए आगे आना किसी आश्चर्य से कम नहीं है। अमूमन किसी दूसरे शहर में अभी तक इस तरह का प्रयोग नहीं हुआ था। अफसरों की मानें तो काशी ने भविष्य में होने वाले देश में किसी भी कार्यक्रम के लिए एक नया संदेश जरूर दे दिया है। आंकड़ों के मुताबिक अब तक प्रशासन के पास 867 आवेदन आ चुके हैं। इनमें पुलिस और एलआईयू के जरिए 533 आवेदन की जांच पूरी कर उन्हें तैयारी करने का निर्देश दिया गया है। साथ ही इन सूची को पीएमओ व विदेश मंत्रालय में भी भेज दिया गया है। जांच के दौरान न केवल परिवार बल्कि इलाके व मकान की भौगोलिक स्थिति को भी जांचा गया है। जिससे उनकी सुरक्षा एवं ट्रैफिक में किसी भी प्रकार में दिक्कत नहीं है। जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह के मुताबिक अभी आवेदन आ रहे हैं। लगभग 800 परिवारों में प्रवासी मेहमानों को ठहराने का लक्ष्य रखा गया है। उम्मीद है कि अगले हफ्ते तक यह आंकड़ा पूरा हो जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pravda guest will stay in 5 500 families