DA Image
21 जनवरी, 2020|5:17|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डिजिटल ठग सुधांशु की कुंडली खंगालने में लगी पुलिस

डिजिटल ठग सुधांशु की कुंडली खंगालने में लगी पुलिस

पीएम डिजिटल ग्राम के नाम से फर्जी वेबसाइट बनाकर अनगिनत लोगों को करोड़ो का चूना लगाने वाले सुधांशु शुक्ला के बारे में एसटीएफ व पुलिस कई और जानकारियां जुटा रही है। सुधांशु को एसटीएफ और रोहनियां पुलिस की संयुक्त टीम ने मंगलवार को लखनऊ से गिरफ्तार किया था। मूल रूप से प्रतापगढ़ का रहने वाले सुधांशु ने हाल-फिलहाल नई दिल्ली के रोहिणी में अपना ठिकाना बना रखा था। बनारस में कॉल सेंटर चालू कराने के नाम पर उसकी ठगी के शिकार रोहनियां के आशीष कुमार की शिकायत पर एसटीएफ सुधांशु की तलाश कर रही थी।

फिलहाल एसटीएफ ने वेबसाइट के माध्यम से रुपये जमा करने वाले खातों को सीज कर दिया है। लोगों से कितने की ठगी हुई, इसकी जानकारी नहीं मिली है। वहीं गिरोह के अन्य सदस्यों की खोज में भी एसटीएफ जगह-जगह छापेमारी कर रही है। एसपी ग्रामीण अमित कुमार ने सुधांशु को बुधवार को मीडिया के सामने पेश किया। बताया कि सुधांशु के खिलाफ प्रदेश के कई जिलों के अलावा मध्य प्रदेश में भी केस दर्ज हैं। 

एसटीएफ को कुछ दिन पूर्व फर्जी वेबसाइट चालने वाले गिरोह के बारे में जानकारी मिली थी। इस जानकारी का तार रोहनियां थाने में आशीष कुमार की ओर से दर्ज एफआईआर से जुड़ा तो एसटीएफ ने जांच आगे बढ़ाई। आशीष ने शिकायत की थी कि कॉल सेंटर चालू करने के नाम पर उससे 3000 रुपए लिए गए हैं। एटीएफ को जांच में पता चला कि वेबसाइट को हूबहु डिजिटल इंडिया की तर्ज पर डिजायन किया गया था। उस पर छोटे लोन, नौकरी और पीएम की योजनाओं के लाभ का प्रलोभन देकर लोगों को ठगा जा रहा है। 

मुखबिर की सूचना पर लखनऊ एसटीएफ ने 20 जुलाई को सुधांशु शुक्ला पुत्र लक्ष्मीकांत शुक्ला के पता नोयडा स्थित सेक्टर ती स्थित घर पर दबिश दी। वहां मिले साक्ष्य के आधार पर पुलिस ने 24 जुलाई को गोमती नगर लखनऊ से अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया। अभियुक्त ने बताया कि वह वर्तमान में दिल्ली के रोहणी स्थित सेक्टर 67 में रहता रहा है।

कई तरह के प्रलोभनों से ठगी 
पूछताछ में अभियुक्त ने बताया कि वह साथियों संग छह माह से वेबसाइट चला रहा था। अब तक 1600 लोगों से प्रति व्यक्ति तीन से चार हजार रुपए लिए गए हैं। लोगों को नामी कंपनियों की फ्रेंचाइजी, आईआरसीटीसी, बस टिकट, मनी ट्रांसफर, मोबाइल व टीवी रिचार्ज का प्रलोभन देकर रुपए ऐंठे जाते थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Police engaged in scavenging the horizon of digital thug Sudhanshu