ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश वाराणसीप्रभाती में मृणाल रंजन का शास्त्रीय गायन

प्रभाती में मृणाल रंजन का शास्त्रीय गायन

सुबह-ए-बनारस की प्रभाती में सोमवार को अस्सी घाट पर युवा कलाकार मृणाल रंजन का शास्त्रीय गायन हुआ। आरम्भ राग मियां की तोड़ी में किया। विलंबित लय एकताल...

प्रभाती में मृणाल रंजन का शास्त्रीय गायन
हिन्दुस्तान टीम,वाराणसीMon, 26 Feb 2024 10:15 PM
ऐप पर पढ़ें

वाराणसी। सुबह-ए-बनारस की प्रभाती में सोमवार को अस्सी घाट पर युवा कलाकार मृणाल रंजन का शास्त्रीय गायन हुआ। आरम्भ राग मियां की तोड़ी में किया। विलंबित लय एकताल में निबद्ध बंदिश ‘अब मोरे राम और द्रुत लय तीनताल में निबद्ध बंदिश ‘अब मोरी नैय्या पार करो तुम का गायन करने के बाद राग भैरवी में निबद्ध भजन ‘माता सरस्वती शारदा से समापन किया। उनके साथ तबला पर अशेष नारायण मिश्र, संवादिनी पर मोहित साहनी एवं तानपुरा पर सर्वेश ने संगत की।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें