DA Image
26 मई, 2020|10:41|IST

अगली स्टोरी

लॉकडाउन : तीन साल की आयत को बचाने आगे आया 'बनारसी इश्क'

बनारसी यूं ही लोगों के दिलों में नहीं उतर जाते। उनका अपनापन हर जगह, परिस्थिति में दिखता है। संकट के समय तो वह और भी शिद्दत से दूसरों के साथ खड़ा दिखता है। ऐसा ही अपनापन मछोदरी मोहल्ले के रहने वाले दो युवकों-रोहित कुमार साहनी और जयंत अग्रवाल ने लॉकडाउन के दौरान संकट में पड़े परिवार के साथ दिखाकर एक नजीर पेश की है। 

इन युवाओं को जानकारी मिली कि तीन साल की एक बच्ची के ओ लेवल खून के प्लेटलेट्स के लिए रक्तदाताओं की जरूरत है तो वे तुरंत आगे आए। मंडुवाडीह के इफ्तिकार अहमद की तीन साल की आयत फातिमा को आईडियोपैथिक थ्रोम्बोसाइटोपेनिक नामक बीमारी है। इस बीमारी के उभरते ही प्लेटलेट्स तेजी से गिरता है। कुछ दिन पहले उन्होंने बच्ची को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया था। सुधार होने पर घर चले गये। इसी बीच रविवार को आयत की हालत फिर बिगड़ी। मां-पिता बच्ची को लेकर अस्पताल पहुंचे तो बताया कि प्लेटलेट्स गिरकर 20 हजार तक पहुंच गया है।

बच्ची को तभी भर्ती किया जाएगा, जब प्लेटलेट्स लेकर आएंगे। लॉकडाउन की स्थिति में मां-बाप भटक रहे थे। इस बीच कुछ संबंधियों ने मदद की पहल की लेकिन ओ लेवल ब्लड की जरूरत होने के कारण वे मदद नहीं कर सके। तब एक रिश्तेदार ने 'बनारसी इश्क' पर यह संदेश भेजा। सोमवार सुबह रोहित और जयंत ने संपर्क किया। अपना ब्लड दिया। फिर इफ्तिकार के जान में जान आई। वह प्लेटलेट्स लेकर बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराने चले गए। 

लॉकडाउन में सात सदस्यों ने किया रक्तदान
'बनारसी इश्क' को ऑपरेट करने वाले रोहित साहनी, वेद प्रकाश गुप्ता, जयंत अग्रवाल, अनूप गुप्ता समेत अन्य सदस्य पहले भी रक्तदान कर चुके हैं। रोहित ने बताया कि लॉकडाउन के बाद 27 मार्च को सुंदरपुर के भरत कुमार बिंद, लहरतारा के महिपाल सिंह राजपूत, अभिषेक सिंह ने रक्तदान किया। 26 मार्च को कैंट के आशुतोष तिवारी और भोजूबीर के राहुल सिंह, 25 मार्च को रथयात्रा के चिंटू केसरवानी और 24 मार्च को दयाशंकर तिवारी ने ओ ब्लड ग्रुप के लिए रक्तदान किया है।

रक्तदान में पहले से सक्रिय 
रोहित साहनी के अनुसार, बनारसी इश्क के लगभग डेढ़ लाख फालोवर हैं। उनमें कई जुनूनी युवा आजमगढ़ से बाइक से चलकर यहां आये और जरूरतमंदों को रक्तदान किया। उन्होंने कहा कि यह कोई एनजीओ नहीं है। सब अपनी मर्जी से रक्तदान के लिए आगे आते हैं। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Lockdown Banarasi Ishq came forward to save three year aayat