DA Image
23 सितम्बर, 2020|2:20|IST

अगली स्टोरी

पत्रकार मर्डर: मंत्री से परिवार की बातचीत के बाद निकली शवयात्रा, 12 साल के बेटे ने दी मुखाग्नि

बलिया में पत्रकार रतन सिंह का अंतिम संस्कार मंगलवार की शाम तमसा नदी के तट पर हुआ। 12 साल के बेटे युवराज सिंह ने जब मुखाग्नि दी तो वहां मौजूद हर किसी का कलेजा तार-तार हो रहा था। इससे पहले पत्रकार के अंतिम संस्कार को लेकर उस समय पुलिस व प्रशासन की मुश्किलें बढ़ गयीं जब मृतक के पिता ने ऐलान कर दिया कि एसओ शशिमौली पांडे की गिरफ्तारी होने तक वह शव को नहीं ले जाने देंगे।

अधिकारियों का प्रयास था कि पोस्टमार्टम के बाद शव को पोस्टमार्टम हाउस से ही सीधे अंतिम संस्कार के लिये ले जाया जाय। हालांकि परिजन शव लेकर घर चले गये। इसके बाद पुलिस के अधिकारियों के पसीने छूटने लगे। इस बीच, पत्रकार रतन सिंह के ससुराल से भी लोग दिल्ली से यहां पहुंच गए। 

शाम को क्षेत्रीय विधायक व मंत्री उपेन्द्र तिवारी ने पिता से बात की। उसके बाद मामला कुछ हद तक शांत हुआ। इसके बाद भी अंधेरा होने लगा और शव दरवाजे पर पड़ा रहा। इसी बीच ससुराल के लोग पहुंच गए। उपेन्द्र तिवारी ने चचिया ससुर गोपाल सिंह से एक बार फिर बात की। उन्होंने संविदा की नौकरी को स्थाई कराने के लिये प्रयास करने का भरोसा दिया। साथ ही परिजनों के साथ मुख्यमंत्री से मिलकर हरसंभव मदद की बात कही। इसके बाद अंतिम संस्कार की कार्रवाई शुरु हुई। देर शाम सागरपाली गांव के सामने तमसा नदी के सेमरा घाट पर अंत्येष्टि हुई। 

सपा ने दिए दो लाख, अखिलेश यादव ने पिता से की बात
पत्रकार रतन सिंह के परिजनों को समाजवादी पार्टी ने दो लाख रुपये की मदद का ऐलान किया है। इस बीच, रतन सिंह के पिता विनोद सिंह से पूर्व मुख्यमंत्री व सपा मुखिया अखिलेश यादव ने मोबाइल पर बात कर हरसंभव मदद का भरोसा दिया। परिजनों से मिलने पूर्व विधायक सपा संग्राम सिंह यादव पहुंचे थे। उन्होंने पहले तो पूर्व सीएम से खुद बात कर घटना की जानकारी दी। इसके बाद पत्रकार के पिता से उनकी बात करायी। अखिलेश यादव ने पिता से हिम्मत रखने व परिवार को सम्भालने की बात कही। अपनी संवेदना जताते हुए हर सम्भव मदद का भरोसा दिया। पत्रकार की बहन से भी अखिलेश यादव ने बात की। बहन ने मदद के साथ ही रतन की पत्नी की नौकरी व आरोपितों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की। ढांढस बंधाते हुए सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने इस मामले में हर कदम पर साथ देने का भरोसा दिया। 

प्रियंका गांधी ने सरकार को घेरा
टीवी न्यूज चैनल के पत्रकार रतन सिंह की हत्या के बाद राजनीतिक दलों में भी हलचल तेज हो गयी। शोक संवेदनाओं के साथ ही सरकार पर हमले भी शुरू हो गए। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव व पूर्वी यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर घटना पर दुख जताते हुए पत्रकार रतन सिंह को श्रद्धांजलि दी। साथ ही एक के बाद हत्याओं के लिए सरकार को घेरा। प्रियंका ने इससे पहले 19 जून को शुभममणि त्रिपाठी, 20 जुलाई को विक्रम जोशी की हत्या का उल्लेख करते हुए लिखा कि 'पिछले तीन महीनों में तीन पत्रकारों की हत्या और 11 पत्रकारों पर खबर लिखने के चलते एफआईआर। यूपी सरकार का पत्रकारों की सुरक्षा व स्वतंत्रता को लेकर ये रवैया निंदनीय है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Journalist Murder The funeral procession after the family conversation with the minister 12 year old son offered fire