DA Image
5 दिसंबर, 2020|7:00|IST

अगली स्टोरी

वाराणसी में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही, सैंपलिंग के बाद जिन्हें भेजा घर वह पाॉजिटिव आ गए

वाराणसी में स्वास्थ्य विभाग की भीषण लापरवाही सामने आ रही है। कोरोना संदिग्धों का सैंपल लेने के बाद उन्हें घर भेज दिया जा रहा है। जबकि कम से कम रिपोर्ट आने तक उन्हें क्वारंटीन होना चाहिए। बनारस में लगातार तीन ऐसे पॉजिटिव मामले सामने आ गए हैं जिसमें सैंपलिंग के बाद मरीज को क्वारंटीन नहीं किया गया। दो मरीज अपने गांव में घूम रहे थे तो तीसरा मरीज मड़ौली का दवा कारोबारी बकायदा दुकान पर भी बैठ रहा था। 

सेवापुरी में 22 अप्रैल को दो लोग कोलकाता से किसी तरह ट्रक में छिपते हुए बनारस तक पहुंच गए थे।दोनों अपने गांव पहुंचे तो ग्रामीणों ने इसकी जानकारी प्रधान को दी। प्रधान वहां पहुंचे और दोनों को जांच के लिए शिवपुर अस्पताल भेजा। 23 अप्रैल को दोनों की सैंपलिंग हुई और घर भेज दिया गया। ग्राम प्रधान ने बताया कि जब वे लोग घर आ गए तो मेरा मन नहीं माना। मैंने वापस जिला अस्पताल में फोन किया। फोन करने के बाद दो एम्बुलेंस आई। वहां पर उनकी जांच की गई। जांच के बाद फिर दोनों को घर भेज दिया गया। रविवार को दोनों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो दोनों अपने घर पर थे।

ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि स्वास्थ्य विभाग ने उन्हे जांच के बाद घर क्यों भेजा। जबकि जांच के बाद लोगों को शासकीय क्वारंटीन सेंटर में रखा जाना चाहिए। अगर उन्हें शासकीय क्वारंटीन सेंटर में रखा गया होता तो अर्जुनपुर को नया हॉटस्पॉट बनाने की जरूरत नहीं पड़ती। इसके साथ ही उनके गांव के लोगों को भी परेशानी का सामान नहीं करना पड़ता। स्वास्थ्य विभाग की जरा सी चूक के कारण उस इलाके को हॉटस्पॉट घोषित कर दिया गया।  

इसी तरह मंडुवाडीह के मड़ौली में मिले कोरोना पॉजिटिव के केस में भी हुआ। स्वास्थ्य विभाग ने उसका सैंपल लेने के बाद घर भेज दिया। वह घर पर भी नहीं रहा। सप्तसागर मंडी स्थित अपनी दुकान पर भी जाता रहा। शुक्रवार को जब उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो वह अपनी दुकान पर ही दवा बेच रहा था। ऐसे में न जाने कितने लोगों को वह संक्रमित कर चुका होगा। स्वास्थ्य विभाग द्वारा हो रही लगातार चूक के कारण कोरोना को रोकने के लिए हो रहे प्रयासों पर सवालिया निशान खडे हो रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:In Varanasi due to gross negligence of the health department those who were sent home after sampling came positive