DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निकली गुरुग्रंथ साहब की सवारी, गूंजी गुरुवाणी

गुरुग्रंथ साहब की सवारी

गुरुनानक देव की भक्ति में लीन साध संगत पुष्पवर्षा करती। गुरुग्रंथ साहब की फूलों से सुसज्जित सवारी के साथ पंच प्यारे धीरे-धीरे चलते रहे और विविध वाद्ययंत्रों पर गूंजती गुरुवाणी। इस बीच जो बोले सो निहाल सत श्री अकाल...के जयकारे होते रहे। उत्साहित स्कूली बच्चे भी वाहे गुरु का पाठ करते चल रहे थे। मौका था गुरुनानक देव के 549वें प्रकाशोत्सव के उपलक्ष्य में गुरुबाग गुरुद्वारे से निकली शोभायात्रा का। 

गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की ओर से गुरुद्वारे में गुरुग्रंथ साहब का पूजन हुआ। रागी जत्था ने सबद कीर्तन किया। इसके बाद पुलिस प्रशासन की निगरानी में ठाटबाट से गुरुग्रंथ साहब की सवारी निकली। महिलाएं, पुरुष व विभिन्न स्कूली बच्चे वाहे गुरु का पाठ करते हुए चल रहे थे। कीर्तन मंडली गुरुवाणी का पाठ कर रही थी। आगे घोड़े पर पंच प्यारे थे तो बच्चों के अलावा स्काउट व एनसीसी के कैडेट थे। विविध प्रकार के बैंड पर भक्ति धुन बज रही थी। 

इस दौरान वाहन पर गुरुनानक देव की स्मृतियों के चित्र प्रदर्शित किए गए थे। वहीं, स्कूली बच्चे बैनर आदि के जरिए स्वच्छता का संदेश भी दे रहे थे। मार्ग में शोभायात्रा का स्वागत हुआ। शोभायात्रा लक्सा, गिरजाघर चौराहा, नई सड़क, चेतगंज, लहुराबीर, मलदहिया, शास्त्री नगर, सिगरा, रथयात्रा होते हुए गुरुबाग गुरुद्वारे पहुंची। यहां आरती के बाद सबद कीर्तन हुआ। कमेटी के प्रबंधक ने बताया कि गुरुनानक देव का प्रकाशोत्सव पर तीन व चार नवंबर को विविध कार्यक्रम होंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Guru granth sahib ride in varanasi