DA Image
22 अप्रैल, 2021|3:37|IST

अगली स्टोरी

फुलवरिया फोर लेन: प्रस्तावित लेन की राह में कटेंगे 471 पेड़

बहुप्रतिक्षित फुलवरिया फोर लेन का निर्माण प्रक्रिया 11 माह 14 दिन बाद शुरू हो गई। इसके तहत पहले फोर लेन की राह में आने वाले 479 पेड़ कटने हैं। शुरू में 71 पेड़ काटे जायेंगे। छावनी परिषद की ओर से नियुक्त ठेकेदार की मशीन मौके पर पहुंच चुकी है। चिह्नांकन के बाद एक-दो दिन में कटाई शुरू हो जायेगी। इसके बाद सेना को बिजली के खंभे और तार भी हटवाने हैं। इसके बाद सेतु निगम और लोक निर्माण विभाग सक्रिय होंगे। 

फोरलेन योजना का शिलान्यास तत्कालीन मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री व इस समय भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्रनाथ पांडेय ने 25 दिसम्बर 2016 को किया था। फोर लेन का काम सेना, सेतु निगम और पीडब्ल्यूडी को मिलकर करना है। सेंट्रल जेल रोड से इमिलिया घाट तक वरुणा नदी पर पुल और दो आरओबी सेतु निगम को बनाना है। सड़क निर्माण पीडब्ल्यूडी करेगी। सेना को अपनी 40 फुट जमीन देनी है। 

चहारदीवारी पीछे करने और छावनी की जमीन से  के साथ बिजली के खम्भे व तार सेना के इंजीनियरिंग विभाग को हटवाने हैं। इसके लिए सेना को छह करोड़ रुपये शासन से स्वीकृत हुए हैं। पिछले दिनों शासन से योजना को मंजूरी मिली। सेना की जमीन से पांच सौ पेड़ कटवाने के लिए छावनी परिषद ने दो बार टेंडर निकाला लेकिन उसे मनमाफिक ठेकदार नहीं मिला। अभी 12 दिन पहले एक ठेकेदार को ठेका दे दिया गया। ठेकेदार ने मशीन से पेड़ों को कटवाने की तैयारी शुरू कर दी है। फोर लेन निर्माण में अतिक्रमण बाधक बना हुआ है। सेना अपनी दीवार 40 फीट पीछे करेगी और फुलवरिया मार्ग के आसपास के अवैध कब्जे हटवाकर 20 फुट जमीन कार्यदायी संस्था को सौंपेगी। 

पिछले अप्रैल में कब्जे हटाने के लिए सेतु निगम व लखनऊ के अफसरों की निगरानी में फुलवरिया रेलवे फाटक से लेकर वरुणा किनारे इमिलियाघाट घाट तक जमीन की नापी हुई थी। उसमें कई मकान व चबूतरे अतिक्रमण की जद में आये। इस पर ग्रामीणों ने आपत्ति जतायी है। सूत्रों के अनुसार अब दोबारा जमीन की नापी कराकर कब्जे हटाए जाएंगे। पीडब्ल्यूडी के अधीक्षण अभियंता वीके श्रीवास्तव ने बताया कि बिजली के तार व खम्भे हटाए जाने के बाद काम शुरू हो सकेगा। इस सिलसिले में सम्बंधित अधिकारियों से बात हो रही है। 

नयी बनाने के बाद हटाएंगे पुरानी दीवार  
फोर लेन निर्माण के लिए 153 करोड़ बजट का प्रस्तावित है। योजना के तहत आरओबी के लिए 54.38 करोड़ रुपये स्वीकृत हो चुके हैं। इसमें एक करोड़ रुपये पास भी हो चुका है। सेना को 18.726 एकड़ जमीन कार्यदायी संस्था को देनी है। जमीन से पेड़ों और दीवार को हटवाने का कार्य सेना के जिम्मे है। सूत्रों के अनुसार सेना पहले नयी चहारदीवारी बना लेगी, उसके बाद बाहरी दीवार हटेगी।    

एक नजर में फोरलेन योजना
-लहरतारा से शिवपुर तक बननी है
-60 फीट चौड़ी व पांच किमी लंबी होगी सड़क।
-लहरतारा व फुलवरिया गेट नम्बर चार पर दो आरओबी, एक वरुणा नदी पर पुल 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Fulvaria Four Lane Cutting 471 trees in the direction of proposed lane