DA Image
2 जनवरी, 2021|8:34|IST

अगली स्टोरी

हत्या करने निकले इनामी समेत पांच दबोचे

default image

वाराणसी। कार्यालय संवाददाता

जौनपुर में बेहड़ा के संजय सिंह की हत्या करने निकले एक इनामी समेत पांच बदमाशों को एसटीएफ वाराणसी की टीम ने शुक्रवार को पिंडरा के कैथवली मोड़ पर दबोच लिया। गिरफ्तार शातिरों में 25 हजार रुपये के इनामी जौनपुर के थानागद्दी के बंभावन निवासी सुभाष यादव उर्फ धीरज उर्फ नेता, उसके गिरोह के केराकत के अतरौता निवासी सुरेश यादव, चंदवक के उमरवार निवासी सूरज यादव, वाराणसी में जंसा के लक्षीपुर गोगवा निवासी वीरेंद्र कुमार पाल और शिवपूजन पटेल हैं।

एसटीएफ को मुखबिर से बदमाशों के पिंडरा होते हुए बेहड़ा जाने की सूचना मिली थी। सूचना पर इंस्पेक्टर अमित श्रीवास्तव ने टीम के साथ कैथवली मोड़ पर कार व बाइक सवार बदमाशों को घेर लिया। घिरे बदमाशों ने फायरिंग की कोशिश की लेकिन एसटीएफ ने बल प्रयोग करते हुए उन्हें पकड़ लिया। बदमाशों के पास से पिस्टल, तमंचा, छह कारतूस, दो खोखा, एक कार, दो बाइक, छह मोबाइल फोन, 1500 रुपये, पांचों के फर्जी पहचान पत्र बरामद किए गए हैं। पकड़े गये बदमाश फर्जी परिचय पत्र के जरिये इधर-उधर छिपकर काम करते रहे। सीओ विनोद कुमार सिंह ने बताया कि सभी के खिलाफ फूलपुर थाने में हत्या के प्रयास, धोखाधड़ी, आर्म्स एक्ट समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया है।

दीपक बेहड़ा के भतीजे आदर्श के लिए हत्या करने निकला था नेता

एसटीएफ इंस्पेक्टर अमित श्रीवास्तव ने बताया कि जौनपुर में थानागद्दी के बेहड़ा निवासी शातिर बदमाश दीपक के भतीजे आदर्श सिंह की बेहड़ा गांव के ही संजय सिंह से अदावत है। लूट के मामले में इनामी सुभाष उर्फ नेता 2018 में जेल गया था। उस दौरान जेल में बंद आदर्श से उसकी दोस्ती हुई थी। दोनों एक साल पहले जेल से बाहर निकले तो संजय की हत्या की साजिश रची गई। शुक्रवार को आदर्श के कहने पर संजय की हत्या करने निकले थे। तभी पकड़े गये।

हत्या और लूट की तीन घटनाओं में शामिल रहा है नेता

सुभाष यादव उर्फ धीरज उर्फ नेता ने साल 2012 में गांव के हरि यादव के कहने पर केराकत छितौनी के अच्छे लाल मौर्या की हत्या कर दी थी, जिसमें गिरफ्तार होकर जेल चला गया। जमानत पर छूटने के बाद साथियों के साथ मिलकर वर्ष 2016 में मुखबिरी के शक में बनारस के उदय विश्वकर्मा व राजू सेठ की चन्दवक क्षेत्र के गोबरा गांव में हत्या कर दी थी। इसके बाद केराकत थाना क्षेत्र के गोलाबाजार में सर्राफा व्यापारी से लूट की थी। उक्त दोनों मामलो मे गिरफ्तार होकर जेल चला गया। आदर्श के गैंग के अपराधियों के साथ सुभाष ने अपना एक मजबूत गैंग बना लिया। इसके बाद सुभाष और आदर्श ने लूट की कई घटनाओं को अंजाम दिया। गांव के पास लूट की घटना में 2018 में जेल चला गया। एक साल पहले छूटा था। वह जौनपुर के चंदवक और आजमगढ़ के देवगांव में लूट की घटनाओं में वांछित था।

हत्या के बाद भागने वाले थे मुंबई

सुभाष ने बताया कि शनिवार को संजय सिंह की हत्या के बाद आजमगढ के कोयलसा बाजार में सराफा व्यवसायी से लूट की योजना थी। इसके बाद सभी ने मुंबई भाग जाने की तैयारी कर रखी थी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Five arrested along with prize for killing