DA Image
24 अक्तूबर, 2020|12:07|IST

अगली स्टोरी

संस्कृत विश्वविद्यालय के प्रकाशन घोटाले में 13 कर्मचारियों को ईओडब्लू की नोटिस

संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में प्रकाशन घोटाले की फाइल फिर खुल गई है। मामले की जांच कर रही आर्थिक अपराध अनुसंधान संगठन (ईओडब्लयू)एक महीने पहले विश्वविद्यालय प्रशासन को एक रिपोर्ट भेजी थी। इस क्रम में संगठन की ओर से तेरह कर्मचारियों को नोटिस जारी की गई है। इन से दो दिन में जवाब मांगा गया है।पत्र पर कुलसचिव राजबहादुर ने सम्बन्धित कर्मचारियों को निर्देश दिया है कि वे नोटिस का जवाब दें और जांच में मदद करें। यह मामला पूर्व कुलपति प्रो.कुटुम्ब शास्त्री के कार्यकाल का है। इस दौरान यह बात सामने आई थी कि विश्वविद्यालय को 2001-2009 के बीच में पांडुलिपियों के प्रकाशन के लिए करीब दस करोड़ रुपए दिए गए। इसमें 3.66 करोड़ रुपए की पुस्तक प्रकाशन विभाग को मिली। 5.68 करोड़ रुपए की राशि का भुगतान बिना पुस्तक प्राप्त किए कर दिया गया। आरोप यह है कि भुगतान में कुलपति के फर्जी मुहर और हस्ताक्षर का उपयोग किया गया। उस समय यह मामला कार्यपरिषद में गया। कार्यपरिषद की संस्तुति पर आर्थिक अपराधअनुसंधान संगठन को जांच सौंपी गई थी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:EOW notice to 13 employees in Sanskrit University publication scam