ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश वाराणसीअमीन सयानी के साथ रेडियो के एक युग का अंत

अमीन सयानी के साथ रेडियो के एक युग का अंत

रेडियो में काम करने वाले और रेडियो सुनने वालों के बीच जब उद्घोष की चर्चा होती है तो यही कहा जाता कि दो उद्घोषक हैं। एक अमीन सयानी और दूसरे उनकी नकल...

अमीन सयानी के साथ रेडियो के एक युग का अंत
हिन्दुस्तान टीम,वाराणसीThu, 22 Feb 2024 02:45 AM
ऐप पर पढ़ें

वाराणसी, प्रमुख संवाददाता।
रेडियो में काम करने वाले और रेडियो सुनने वालों के बीच जब उद्घोष की चर्चा होती है तो यही कहा जाता कि दो उद्घोषक हैं। एक अमीन सयानी और दूसरे उनकी नकल करने वाले। उनके पहले और बाद कोई ऐसा उद्घोषक हुआ ही नहीं जिसने रेडियो श्रोताओं के दिल में अपनी जगह बनाई हो। 91 वर्षीय अमीन सयानी के गत मंगलवार की शाम निधन के साथ रेडियो के एक युग का अंत हो गया।

वरिष्ठ उद्घोषक किशोर कुमार ने कहा कि वह एक मात्र ऐसे उद्घोषक थे जो भारतीयों की कम से कम पांच पीढ़ियों के दिलों पर एक साथ राज करते थे। अभिनव अरुण का कहना है कि वह अपने प्रतिष्ठित कार्यक्रम बिनाका गीतमाला के लिए जाने जाने थे। रेडियो उद्घोषक तेज बहादुर तेज ने कहा कि ऑल इंडिया रेडियो को लोकप्रिय बनाने में अमीन सयानी के योगदान को कभी नहीं भुलाया जा सकता। अमीन सयानी के नाम 54,000 से ज्यादा रेडियो कार्यक्रम प्रोड्यूस/वॉयसओवर करने का रिकॉर्ड दर्ज है। यही नहीं करीब 19,000 जिंगल्स के लिए आवाज देने के लिए भी उनका नाम लिम्का बुक्स ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज है। युवा उद्घोषिका जगदीश्वरी चौबे ने कहा कि अमीन सयानी को सुन-सुन कर ही मेरे मन में उद्घोषिका बनने की इच्छा बलवती हुई थी। उद्घोषक पांडुरंग पुराणिक ने कहा कि अमीन सयानी कई फिल्मों में रेडियो अनाउंसर के तौर पर नजर आए।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें