DA Image
2 मार्च, 2021|12:46|IST

अगली स्टोरी

बेटे की याद में छात्रवृत्ति के लिए शिक्षाधिकारी ने बनाया ट्रस्ट

default image

वाराणसी वरिष्ठ संवाददाता

बनारस में रहने वाले गाजीपुर के शिक्षाधिकारी सोमारू प्रधान ने मिसाल पेश की है। पिछले साल सितंबर में करेंट लगने से ग्यारहवीं में पढ़ने वाले उनके बेटे अनुराग वैभव का दुखद निधन हो गया। इस गम से उबरने के बाद उन्होंने अपने लाडले की स्मृति को स्थायी बनाने की ठानी।

सोमारू प्रधान ने अपने बेटे की समृति में अनुराग वैभव मेमोरियल ट्रस्ट बनाया। इस ट्रस्ट के माध्यम से उन्होंने गरीब और मेधावी छात्रों को स्कॉलरशिप देने की योजना बनाई। स्कॉलरशिप अनुराग वैभव की स्मृति में दी जाएगी। उन्होंने इसके लिए बच्छांव के उसी महामना इंटर कॉलेज का चयन किया, जहां उनका बेटा पढ़ता था।

गाजीपुर में डायट के उप प्राचार्य सोमारू प्रधान ने बताया कि अनुराग वैभव मेधावी छात्र था। उसने हाई स्कूल में 80% अंक प्राप्त किए थे। बेटे के असामयिक निधन के बाद उन्होंने और परिवार ने तय किया कि उसकी स्मृति में गरीब व मेधावी छात्रों की मदद की जाएगी। मृ्त्यु के तीसरे दिन ही उन्होंने महामना इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य को 1,31,000 का चेक सौंपा था। बाद में 1.5 लाख रुपए दिए गए। सोमारू प्रधान बताते हैं कि अनुराग वैभव छात्रवृत्ति योजना के तहत महामना इंटर कॉलेज बच्छांव को पांच लाख रुपए दिए जाएंगे, जिससे हर साल 30 छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी।

गुरुवार को विद्यालय के 10 मेधावी छात्र छात्राओं में छात्रवृत्ति की राशि वितरित की गई। प्रथम स्थान पर रहने वाले विद्यालय के तीन छात्राओं को 1100, द्वितीय स्थान पर रहने वाले तीन छात्रों को 900 और चौथे स्थान पर रहने वाली चार छात्राओं को 700 की छात्रवृत्ति प्रदान की गई। उन्होंने बताया कि अनुराग वैभव स्मृति मेमोरियल ट्रस्ट माध्यम से समाज के असहाय दिव्यांग एवं निर्धन लोगों के मदद की योजना है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Educationalist formed trust for scholarship in son 39 s memory