Dr Firoz gave interview for BHU s Faculty of Arts - बीएचयू के कला संकाय के लिए डॉ.फिरोज ने दिया इंटरव्यू DA Image
13 दिसंबर, 2019|12:35|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीएचयू के कला संकाय के लिए डॉ.फिरोज ने दिया इंटरव्यू

बीएचयू के कला संकाय के लिए डॉ.फिरोज ने दिया इंटरव्यू

बीएचयू संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय में साहित्य विभाग के सहायक प्रोफेसर पर नियुक्ति पर चल रहे विरोध के बीच बुधवार को कला संकाय के संस्कृत विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर पद के इंटरव्यू में डॉ. फिरोज शामिल हुए। साक्षात्कार कुलपति आवास पर हुआ। कमेटी में शामिल एक अधिकारी ने बताया कि साक्षात्कार का परिणाम सात दिसंबर को कार्यकारिणी परिषद की बैठक के बाद घोषित होने की संभावना है।

साक्षात्कार के लिए बुलाए गए 39 उम्मीदवारों में डॉ. फिरोज 11 वें स्थान पर थे। फिरोज ने तीन संकायों में सहायक प्रोफेसर पद के लिए आवेदन किया। जिसमें एसवीडीवी में सहित्य विभाग, आयुर्वेद में संस्कृत और बीएचयू के कला संकाय के संस्कृत विभाग में इंटरव्यू हो चुका है। फिरोज को पहले ही एसवीडीवी के साहित्य विभाग में सहायक प्रोफेसर के रूप में नियुक्त किया जा चुका है।

प्राचीन भारतीय इतिहास संस्कृति और पुरातत्व विभाग बीएचयू के प्रोफेसर एमपी अहिरवार ने कहा कि डॉ. फिरोज खान को पहले ही एसवीडीवी संकाय के साहित्य विभाग में एक सहायक प्रोफेसर के रूप में नियुक्त किया गया है। कोई भी व्यक्ति एक ही विश्वविद्यालय के अलग-अलग विभाग में एक ही पद के लिए साक्षात्कार में क्यों आना चाहेगा। ऐसा लगता है कि बीएचयू प्रशासन ने नियुक्ति से संबंधित विवाद को निपटाने के लिए रणनीति के रूप में साक्षात्कार में उपस्थित होने के लिए कहा।

प्रो. अहिरवार ने कहा कि डॉ. फिरोज की नियुक्ति का विरोध पूरी तरह से असंवैधानिक है। इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए बीएचयू के जनसंपर्क अधिकारी डॉ. राजेश सिंह ने कहा कि कोई भी व्यक्ति जो पात्र हो, किसी भी समय, कहीं भी आवेदन करने के लिए स्वतंत्र है। चुने गए उम्मीदवारों को नियम के अनुसार साक्षात्कार के लिए आमंत्रित किया गया है। आयुर्वेद के संस्कृत विभाग के चयन समिति में शामिल एक सदस्य ने बताया कि आयुर्वेद विभाग के संहिता और संस्कृत विभाग में सहायक प्रोफेसर पद के लिए उम्मीदवार का साक्षात्कार किया गया। डॉ. फिरोज का इंटरव्यू अच्छा रहा है।

डॉ.फिरोज की नियुक्ति के विरोध में लगाए पोस्टर

बीएचयू के संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय में बुधवार को गैर हिंदू का प्रवेश वर्जित का पोस्टर लगाकर प्रदर्शनकारियों ने असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. फिरोज खान की नियुक्ति का विरोध किया। इन पोस्टरों में प्रशासन से पूछा गया था कि धर्म के संकाय यानी मंदिर में गैर हिंदू कैसे? इस संबंध में छात्रों का कहना था कि संकाय में लगे शिलालेख के हवाले से पोस्टर में वक्तव्य लिखे गए। बाद में सुरक्षाकर्मियों ने संकाय में जगह-जगह लगे पोस्टर हटवा दिये।

फिरोज खान की नियुक्ति के विरोध में दोबारा धरना शुरू करने वाले छात्रों ने पोस्टर उसी वक्त लगाया जब कला संकाय के संस्कृत विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर पद के लिए इंटरव्यू चल रहा था। सात नवम्बर से ही संकाय के विद्यार्थी डॉ. फिरोज की नियुक्ति का विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कुलपति आवास के बाहर धरना दिया। 22 नवम्बर को विश्वविद्यालय प्रशासन के आश्वासन के बाद छात्रों ने धरना समाप्त कर दिया था लेकिन विरोध जारी रखा। संकाय से मिले सवालों के जवाब से असंतुष्ट छात्रों ने सोमवारक को दोबारा धरना शुरू कर दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Dr Firoz gave interview for BHU s Faculty of Arts