DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

VIDEO निगमीकरण के विरोध में DLW कर्मचारी सड़क पर उतरे, हड़ताल की चेतावनी

डीरेका (DLW) के निगमीकरण के रेल मंत्रालय के प्रस्ताव से नाराज कर्मचारियों ने सोमवार को डीरेका बचाओ संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले विरोध-प्रदर्शन किया। काली पट्टी बांधकर काम किया। शाम चार बजे पूर्वी गेट पर जमा हुए सैकड़ों कर्मचारियों ने प्रस्ताव के विरोध में एकजुटता दिखाई। कहा कि प्रस्ताव वापस नहीं हुआ तो वे हड़ताल पर चले जाएंगे। कर्मचारियों का विरोध प्रदर्शन 27 जून तक जारी रहेगा। 

पूर्वी गेट पर कर्मचारियों के प्रदर्शन के दौरान डीरेका बचाओ संयुक्त संघर्ष समिति के संयोजक व कर्मचारी परिषद के संयुक्त सचिव वीडी दुबे ने कहा कि डीरेकाकर्मी भारतीय रेलवे के लिए समर्पित रहे हैं। इसी का नतीजा रहा कि डीरेका को तीन बार बेस्ट प्रोडक्शन यूनिट का अवार्ड मिल चुका है। यहां डीजल इंजन का उत्पादन बंद कर विद्युत इंजन का उत्पादन किया जाने लगा। इसे भी कर्मचारियों ने स्वीकार किया। अब निगमीकरण की प्रक्रिया शुरू की जा रही है। यह उचित नहीं है। निगमीकरण का प्रस्ताव रद होने तक विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। 

इसके पहले वर्कशॉप और प्रशासनिक भवन में कर्मचारियों ने काली पट्टी बांधकर काम किया। पूर्वी गेट पर प्रदर्शन के बाद प्रशासनिक भवन पहुंचे। यहां मेंस कांग्रेस ऑफ डीएलडब्ल्यू ने जीएम को ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर कर्मचारी परिषद के सदस्य नवीन सिन्हा, प्रदीप यादव, विनोद सिंह, आलोक, मजदूर संघ के महामंत्री कृष्ण मोहन तिवारी, रेल मजदूर यूनियन के महामंत्री राजेन्द्र पाल, राजेश, हरिशंकर यादव, मुकेश वर्मा, अविनाश पाठक, जयनारायन भट्ट, अरविंद तिवारी, जयप्रकाश, अमित कुमार, रमायन यादव आदि मौजूद रहे।

आज कर्मचारी क्लब में सभा
वाराणसी। डीरेका बचाओ संयुक्त संघर्ष समिति के संयोजक के वीडी दुबे ने बताया कि मंगलवार को भी कर्मचारी काली पट्टी बांधकर काम करेंगे। शाम चार बजे कर्मचारी क्लब में सभी एसोसिएशन व संगठनों के पदाधिकारियों की बैठक होगी। इसमें दो दिवसीय गेट मीटिंग पर चर्चा होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:DLW staff landed on the street in protest of corporate strike warning