Boating stopped since late evening on March 10 - दिल में रह गई सुबह-ए-बनारस देखने की कसक DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल में रह गई सुबह-ए-बनारस देखने की कसक

विदेशी पर्यटकों का सुबह-ए-बनारस का ट्रिप हुआ कैंसिल

फ्रांस के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री मोदी के कार्यक्रम के कार्यक्रम के कारण गंगा में नौका संचालन पर रोक लगने से पर्यटक निराश हैं। टूर पैकेज में नौकाविहार, सुबह-ए-बनारस और गंगा आरती शामिल होने के बावजूद उन्हें इससे वंचित रहना होगा। स्थिति यह है कि ट्रेवल एजेसियों ने शनिवार को आये अपने टूर ग्रुप को शाम को ही नौकाविहार करा दिया। उनका कहना था कि रविवार की सुबह की ट्रिप रद कर दी गई है। नौका विहार करने के बावजूद पर्यटकों का कहना है कि उनके दिल में सुबह-ए-बनारस न देखने की कसक रह गई। 

रूस के बोरिश बोरोड्यूलीन और अन्ना रोजेस्टीन शनिवार की सुबह बनारस पहुंचे। वे रूस से बनारस गंगा आरती और सुबह-ए-बनारस खासतौर पर देखने के लिए आये थे। लेकिन यहां आते ही उन्हें बताया गया कि वे गंगा आरती तो देख लेंगे लेकिन सुबह-ए-बनारस के दौरान नौकाविहार नहीं कर पायेंगे। इनका कहना है कि सुबह के सूरत की लालिमा, घंटे-घडि़याल की आवाज, मंदिरों में पूजा-अर्चन देखने की चाह बनारस लाई थी। लेकिन उसे मिस कर दिया। 

उनके साथ ट्रिप में शामिल लेवसिमखेव और गैलीना बीगन ने मलाल जताते हुए कहा कि शाम-ए-लखनऊ और सुबह-ए-बनारस का इतना ज्यादा क्रेज है कि उसे देखने की चाह इंडिया ले आती है। ऐसे में सात समुंदर पार यहां आने पर बताया जा रहा है कि हम उसका आनंद नहीं ले सकते। होली वेजेज की निदेशक सीमा सिंह ने बताया कि नौका संचालन बंद होने के कारण पर्यटक निराश हैं। कईयों ने तो एजेंटों से शिकायत भी कर दी है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Boating stopped since late evening on March 10