Big disclosures Venom was being replaced by milk in Varanasi Factory Seal - बड़ा खुलासा: वाराणसी में दूध की जगह पिला रहे थे 'जहर', फैक्ट्री सील DA Image
14 नबम्बर, 2019|5:33|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बड़ा खुलासा: वाराणसी में दूध की जगह पिला रहे थे 'जहर', फैक्ट्री सील

जिला प्रशासन व खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने रोहनियां में डिटर्जेंट से बन रहे दूध की फैक्ट्री पकड़ी। अपर जिलाधिकारी (नगर) विनय कुमार सिंह के नेतृत्व में हुई कार्रवाई में करीब 10 हजार लीटर पैकेट का दूध पकड़ा गया। फैक्ट्री को सील कर संचालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी शुरू कर दी है।

अपर जिलाधिकारी (नगर) ने बताया कि 19 मई को सूचना मिली थी कि मिलावटी दूध का कारोबार किया जा रहा है। खाद्य सुरक्षा विभाग ने फैक्ट्री से दूध का सैम्पल लेकर जांच के लिए लखनऊ लैब में भेजा। सोमवार की शाम जांच रिपोर्ट में दूध में डिटरजेंट के मिलावट का पता चलते ही छापेमारी हुई। सुबह नौ बजे ही प्रशासन, खाद्य सुरक्षा विभाग और पुलिस ने संयुक्त रूप से छापामार कर फैक्ट्री में बने करीब 10 हजार लीटर दूध को जप्त कर लिया।

अधिकारियों के अनुसार चेन्नई की कम्पनी बाहर से दूध मंगाकर काशी में संजोग ब्रांड से पैकेट तैयार करती है। यह शहर के साथ ही आसपास के जिलों में भी डिलिवरी देती है। रिजस्टर चेक किया गया तो पता चला कि दो दिन पहले मुरैना से दो टैंकर दूध मंगाया गया था। इसी दूध की मौके पर पैकिंग चल रही थी। एडीएम ने बताया कि यहां घी भी बनाया जाता है। प्रशासन ने उसका भी सैम्पल लेकर लखनऊ लैब में भेज दिया है।

लिवर व किडनी के लिए हानिकारक है यह दूध
अधिकारियों की मानें तो डिटर्जेंट युक्त मिलावटी दूध लीवर के लिए काफी हानिकारक है। बच्चों के लिए तो और भी हानिकारक है। यह दूध किडनी को भी नुकसान पहुंचाता है। कम्पनी मिलावटी दूध बेचकर लोगों के जीवन से खेलवाड़ कर रही थी। इस कम्पनी में 500 एमएल, फुल क्रीम, ढाई सौ एमएल व 100 एमएल ट्रोन मिल्क की पैकिंग होती थी। यहां से प्रतिदिन 5 से 10 हजार लीटर दूध की आपूर्ति की जाती थी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Big disclosures Venom was being replaced by milk in Varanasi Factory Seal