DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘ब्रह्मास्त्र’ के डायरेक्टर अयान बोले- फिल्म में बनारस भी है एक किरदार

अमिताभ बच्चन, रणबीर कपूर, आलिया भट्ट, नागार्जुन जैसे स्टार के साथ फिल्म ब्रह्मास्त्र बना रहे डायरेंक्टर अयान मुखर्जी का कहना है कि इस फिल्म में बनारस भी एक किरदार है। अयान ने बताया कि ब्रह्मास्त्र पर मैं पिछले छह साल से काम कर रहा हूं। इस दौरान दर्जनों बार बनारस आना हुआ। इन छह सालों में मैंने बनारस को बदलते हुए न सिर्फ देखा है बल्कि महसूस भी किया है। ‘ब्रह्मास्त्र’ में बनारस अपने आप में एक किरदार के रूप में दिखाया जाएगा।

ब्रह्मास्त्र की शूटिंग पिछले एक महीने से बनारस में चल रही है। बुधवार को नदेसर पैलेस में फिल्म के अन्य कलाकारों के साथ अयान ने मीडिया से बातचीत की। फिल्म की कहानी के अनुसार नागार्जुन काशी के एक मंदिर के पुनरोद्धार के लिए काशी आते हैं। उसी क्रम में फिल्म के सभी महत्वपूर्ण किरदारों की मुलाकात काशी में होती है। ‘ब्रह्मास्त्र’ के बाद ‘ब्रह्मास्त्र-टू’ और ‘ब्रह्मास्त्र-थ्री’ की योजना भी पहले ही बनाई जा चुकी है। हम देश की विभिन्न धार्मिक नगरियों को जोड़ कर आज के परिदृश्य पर आधारित फिल्म बनाना चाहते हैं।

फिल्म की पूरी यूनिट बदलते बनारस से दिखी प्रभावित

‘ब्रह्मास्त्र’ की कास्ट आलिया भट्ट, नागार्जुन, मौली राय, सौरभ और निर्देशक अयान बदलते बनारस से बेहद प्रभावित दिखे। रणबीर ने नागार्जुन के हवाले से कहा कि 15 साल पहले नागार्जुन ने बनारस में शूटिंग करने के बाद अपने अनुभव मुझे बताए थे। उस आधार पर मैं कह सकता हूं कि बनारस बहुत बदला है। रणबीर ने इसका श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिया। नागार्जुन ने 15 साल पहले और बाद के बनारस में बहुत बदलाव महसूस किया। सफाई उन्हें सबसे बड़ा बदलाव दिखा।

रणबीर अौर आलिया बोले, हम तो पूरी तरह हो गए बनारसी 

करीब एक महीने से वाराणसी में फिल्म ब्रह्मास्त्र की शूटिंग कर रहे रणबीर अौर आलिया अब पूरी तरह बनारसी हो चुके हैं। यह बात खुद दोनों ने बुधवार को मीडिया से बातचीत में कही। नदेसर पैलेस में पत्रकारों से  दोनों ने कहा कि ‘हम तो पूरे बनारसी हो गए हैं, बनारस की लाइफ स्टाइल ही जी रहे हैं।’ बनारस को जीने की शुरुआत हमने ठंडई पीकर की थी। गंगा में नाव से घूमने के बाद जो सुकून मिला उसने पहले दो दिनों में हिला देने वाली गर्मी का दर्द कम कर दिया था। हम रोजाना शूटिंग के लिए जाते वक्त किसी न किसी खास दुकान के बाहर कभी लस्सी का स्वाद चखते हैं तो कभी चाट-गोलगप्पे खाते हैं। भीड़ से बचने के लिए यह सब हम कार में बैठे-बैठे ही करते हैं। हम बनारस को पूरी तरह जी रहे हैं और शर्तिया यहां से जाने के बाद हम इस शहर को बहुत मिस करने वाले हैं।

बनारस से दादा अौर परदादा का रिश्ता आज भी याद है : रणबीर
सिने स्टार रणबीर कपूर को बनारस और बिहार से कपूर खानदान का रिश्ता याद है। अपने परदादा पृथ्वीराज कपूर और दादा राज कपूर द्वारा जोड़े गए इस रिश्ते के कारण ही बनारस उन्हें बेहद अपना लगा। रणबीर ने कहा कि अक्सर मौका मिलने पर मेरे पिता दादाजी और परदादाजी के किस्से सुनाया करते थे। उन्होंने बताया था कि मेरे परदादा पृथ्वीराज कपूर बिहार के मुजफ्फरपुर में प्रख्यात साहित्यकार पं.जानकी वल्लभ शास्त्री के यहां तीन महीने तक प्रशंसकों से छिप कर रहे। दादा राज कपूर के बनारस से जुड़े संस्मरण भी उन्हें याद हैं। यहां जब नागरी नाटक मंडली के वर्तमान मंच के निर्माण नहीं हुआ था तब तंबू-कनात से बनाए गए मंच पर उन्होंने दो नाटक किए थे। उनके नाम ‘पैसा’ और ‘दहेज’ थे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ayan Boley director of Brahmastra also has a role in the film Benaras