Another arrested in PAC recruitment scam - पीएसी भर्ती घोटाले में सामने आया एक और नाम, गिरफ्तार DA Image
12 दिसंबर, 2019|9:00|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीएसी भर्ती घोटाले में सामने आया एक और नाम, गिरफ्तार

पीएसी भर्ती घोटाले में सामने आया एक और नाम, गिरफ्तार

पीएसी आरक्षी भर्ती घोटाले में एक और दलाल रामनगर के अस्तबल निवासी हुसनवाज अहमद को कैंट पुलिस ने बुधवार को गिरफ्तार किया है। आरोप है कि हुसनवाज अभ्यर्थियों से पैसे लेकर डॉ. शिवेश जायसवाल तक पहुंचाता था। पुलिस के मुताबिक पूछताछ में उसने बताया कि री-मेडिकल कराने में उसने मोटी कमाई की है।

मामले की विवेचना कर रहे सीओ कैंट मो. मुश्ताक की जांच में सामने आया कि रामनगर का हुसनवाज अहमद उर्फ हसी भी इसमें शामिल है। पूछताछ में हुसनवाज ने बताया कि पुलिसलाइन में 28 से 30 अगस्त तक हुए री-मेडिकल में अभ्यर्थियों को पास कराने के लिए उसने डॉ. शिवेश जायसवाल को पैसे दिए थे। इसमें उसने खुद भी पैसे कमाये। कैंट प्रभारी निरीक्षक अश्विनी कुमार चतुर्वेदी, सिपाही अश्विनी कुमार सिंह, मनीष कुमार और संदीप कुमार ने उसे पुलिस लाइन चौराहे से गिरफ्तार किया। तीन नामजद आरोपित अब भी फराररिश्वत लेकर री-मेडिकल में पास कराने के आरोपित पीएसी रामनगर का आरक्षी रमेश सिंह, पुलिस लाइन गाजीपुर का आरक्षी राजेश कुमार सिंह और पवन कुमार जायसवाल अब भी फरार हैं। कैंट थानाध्यक्ष का कहना है कि इनकी गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है। 22 नवंबर को हुई थी पहली गिरफ्तारीइस घोटाले में पुलिस ने पहली गिरफ्तारी 22 नवंबर को की थी। जिला अस्पताल के डॉ. शिवेश जायसवाल और एक अन्य दलाल आकाश बेनवंशी को गिरफ्तार किया गया था। इसके एक दिन बाद कबीरचौरा अस्पताल के डॉ. एसके पांडेय को गिरफ्तार किया गया। जांच में सामने आ रहे नये नाम शुरुआती जांच में इस मामले में छह नामजद आरोपित थे। हुसनवाज का नाम इन नामजद आरोपितों में नहीं था। जांच में इस घोटाले के तार कई जगहों से जुड़ रहे हैं। सूत्रों की मानें तो इस घोटाले के तार विभागीय उच्चाधिकारियों से भी जुड़ सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Another arrested in PAC recruitment scam