DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अंखियां श्याम मिलन की प्यासी...

अंखियां श्याम मिलन की प्यासी...

गंगा के अस्सी तट पर शुक्रवार की सुबह सेंट जांस, महरौली की संगीत शिक्षिका विनीता गुजराती का गायन हुआ। सुबह-ए-बनारस की शुरुआत सूर्य स्तुति से हुई। आरती, यज्ञ आदि के बाद विनीता ने राग विलासखानी तोड़ी में गायन शुरू किया-बीत गई सगरी रतिया...। भावरंग की रचना, हमें न सिखाओ यह ज्ञान... सुनाने के बाद भजन अंखियां श्याम मिलन की प्यासी ... से गायन का समापन किया। तबले पर आनंद गुप्ता एवं हारमोनियम पर पं. जमुना बल्लभ गुजराती ने साथ दिया। कलाकार को प्रमाणपत्र बेंगलुरु की युवा इंजीनियर चन्दना दवे ने प्रदान किया। पं. विजय प्रकाश मिश्र ने योगाभ्यास कराया। संचालन डॉ. प्रीतेश आचार्य ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ankhiyaan shyaam milan kee pyaasee...