DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › वाराणसी › कठोर ट्रेनिंग के बाद 94 रंगरूट बने सेना के अभिन्न अंग
वाराणसी

कठोर ट्रेनिंग के बाद 94 रंगरूट बने सेना के अभिन्न अंग

हिन्दुस्तान टीम,वाराणसीPublished By: Newswrap
Tue, 28 Sep 2021 03:30 AM
कठोर ट्रेनिंग के बाद 94 रंगरूट बने सेना के अभिन्न अंग

वाराणसी। कार्यालय संवाददाता

कैंटोंमेंट स्थित 39 जीटीसी परिसर के कसम परेड ग्राउंड में सोमवार को पासिंग आउट परेड हुआ। इसमें 94 रंगरूटों ने देश की रक्षा का संकल्प लिया। शपथ लेने के साथ सभी गोरखा जवान भारतीय सेना का अभिन्न हिस्सा बन गए। परेड से पहले गोरखा जवानों को परंपरा के अनुसार खुखरी (एक प्रकार का हथियार) भेंट किया गया। इसके बाद रूंगरूटों ने पवित्र ग्रंथ गीता पर हाथ रखकर भारतीय संविधान में आस्था, देशभक्ति और भारतीय सेना में कर्तव्यनिष्ठा से सेवा करने का संकल्प लिया। परेड के पहले डिप्टी कमांडेंट कर्नल हितेश दुग्गल ने परेड की सलामी ली।

वहीं 39 जीटीसी के कमांडिंग ऑफिसर ब्रिगेडियर हुकुम सिंह बैंसला (सेना मेडल) ने परेड के निरीक्षण के बाद सलामी ली। रंगरूटों को संबोधित करते हुए ब्रिगेडियर बैंसला ने कहा कि एक सैनिक को हमेशा अनुशासन, अपनी फिटनेस पर गंभीरता से ध्यान देना चाहिए। साथ ही शस्त्र के सही रखरखाव पर भी गंभीर रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि विपरीत परिस्थितियों में भी हौसला बुलंद रखने की जरूरत है। सैनिकों को देशभक्ति का जज्बा रखना चाहिए। इस भावना से कठिन परिस्थितियों का सामना करना आसान हो जाता है। उन्होंने कहा कि अच्छी शिक्षा ग्रहण करने और रोज कुछ नया सीखने पर ध्यान होना चाहिए।

ब्रिगेडियर बैंसला ने विभिन्न क्षेत्रों में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले सैनिकों को पुरस्कृत किया। अमृत बीके के बेस्ट इन फाइरिंग यंग राइफलमैन, कपिल कुंवर को बेस्ट इन कॉम्बेट ओबेस्टिकल कोर्स- यंग राइफलमैन व ले. कपाडिया ट्राफी से सम्मानित किया गया। निखिल थापा को बेस्ट इन टैक्टिक्स यंग राइफलमैन, सुमित थापा को बेस्ट इन बीपीईटी यंग राइफलमैन, सनम श्रेष्ठ को बेस्ट इन बेनेट व खुखरी फाइटिंग, मनोज महरंगी मगर को बेस्ट इन ड्रिल यंग राइफलमैन, सनोद मगर को सेकेंड ऑल राउंड बेस्ट का जनरल एमके लहरी मेडल से सम्मानित किया गया। माधव कुमल को ऑल राउंड बेस्ट गौरव तलवार यंग राइफलमैन प्रदान किया गया।

संबंधित खबरें