DA Image
7 जुलाई, 2020|9:10|IST

अगली स्टोरी

अक्षय तृतीया: आभूषणों के फुटकर बाजार में 150 करोड़ का कारोबार

अक्षय तृतीया: आभूषणों के फुटकर बाजार में 150 करोड़ का कारोबार

1 / 4अक्षय तृतीया: आभूषणों के फुटकर बाजार में 150 करोड़ का कारोबार

अक्षय तृतीया: आभूषणों के फुटकर बाजार में 150 करोड़ का कारोबार

2 / 4अक्षय तृतीया: आभूषणों के फुटकर बाजार में 150 करोड़ का कारोबार

अक्षय तृतीया: आभूषणों के फुटकर बाजार में 150 करोड़ का कारोबार

3 / 4अक्षय तृतीया: आभूषणों के फुटकर बाजार में 150 करोड़ का कारोबार

अक्षय तृतीया: आभूषणों के फुटकर बाजार में 150 करोड़ का कारोबार

4 / 4अक्षय तृतीया: आभूषणों के फुटकर बाजार में 150 करोड़ का कारोबार

PreviousNext

अक्षय तृतीया के पर्व पर बुधवार को जिले के तीन सौ से अधिक फुटकर कारोबारियों ने डेढ़ सौ करोड़ के आभूषणों की बिक्री की। वहीं दूसरी ओर करीब तीन वर्ष पूर्व ढाई सौ करोड़ तक पहुंचने वाला थोक कारोबार इस वर्ष 50 करोड़ का आंकड़ा भी नहीं छू सका। 

वाराणसी रिटेल ज्वेलर्स असोसिएशन के सचिव संतोष अग्रवाल के अनुसार वाराणसी शहर और देहात में मिला कर तीन सौ से अधिक दुकानें जीएसटी में पंजीकृत हैं। इन सभी दुकानों का साराकारोबार पूरी लिखापढ़ी के साथ होता है। ऐसे में कैश की किल्लत के बाद भी लोगों ने जमकर खरीदारी की। शहर में दो दर्जन बड़े कारोबारी हैं जिनके यहां सिर्फ अक्षय तृतीया के दिन ही दो से ढाई करोड़ की बिक्री हुई है। वहीं दूसरी ओर थोक कारोबारियों के लिए इस वर्ष अक्षय तृतीया का पर्व बेहद निराशाजनक रहा। उत्तर प्रदेश स्वर्णकार संघ के जिलाध्यक्ष कमल कुमार सिंह ने बताया कि करीब तीन वर्ष पूर्व अक्षय तृतीया पर बनारस की थोक आभूषण मंडी में ढाई सौ करोड़ का रिकार्ड कारोबार दर्ज किया गया था। बाद के वर्षों में नोटबंदी और जीएसटी के कारण थोक कारोबार में बहुत ही अधिक कमी आई है। उन्होंने बताया कि अक्षय तृतीया के दिन आभूषणों की थोक खरीद-बिक्री 40 से 45 करोड़ के बीच ही सिमट कर रह गई। 

हल्के मगर भड़कीले आभूषणों की मांग
अक्षय तृतीया पर हल्के मगर भड़कीले आभूषणों की मांग अधिक रही। बनारस स्वर्ण कला केंद्र के संचालक आशीष  जायसवाल ने बताया कि सोने की कीमत बहुत अधिक बढ़ जाने के कारण लोग हल्के वजन में भड़कीले  आभूषणों की मांग अधिक कर रहे हैं। बुधवार को 24 कैरेट के दस ग्राम सोने की कीमत 32 हजार रुपए जबकि 22 कैरेट के दस ग्राम सोने की कीमत 31 हजार रुपए थी। वहीं ऑफर के साथ 24 कैरेट वाला दस ग्राम सोना 29,900 रुपए में दिया गया। कन्हैया स्वर्ण कला केंद्र के संचालक गुंजन अग्रवाल ने बताया कि चेक से भुगतान करने वाले ग्राहकों को तुरंत डिलेवरी की सुविधा देने के लिए हमने शहर के सभी प्रमुख बैंकों में खाते खोल रखे हैं। ग्राहकों से चेक लेने के बाद हम तत्काल बैंक से संपर्क करके चेक के कैश होने के बाबत जानकारी ले लेते हैं। बैंक द्वारा ओके किए जाने के बाद हम तत्काल आभूषण डिलेवर कर देते हैं अन्यथा चेक क्लियर होने तक आभूषण डिलेवर नहीं किए जाते।

ज्वेलरी बाजार में ई-पेमेंट को मिली तरजीह
शहर में आभूषण की दुकानों पर अक्षय तृतीया की खरीदारी करने जुटे ग्राहकों ने ई-पेमेंट सिस्टम को अधिक तरजीह दी। आभूषणों के फुटकर कारोबार पर कैश की कमी का खास असर नहीं पड़ा। ग्राहकों ने आरटीजीएस,चेक,केडिट और डेबिट कार्ड जैसी सुविधाओं का भरपूर उपयोग किया। 

अक्षय पुण्य की कामना से आस्थावानों ने रखा उपवास
अक्षय पुण्यफल की कामना से अक्षय तृतीया का पर्व वैशाख शुक्ल तृतीया के दिन बुधवार को मनाया गया। आस्थावानों ने कृतिका नक्षत्र में भगवान श्रीहरिविष्णु, श्रीकृ़ष्ण और शिव की पंचोपचार, दशोपचार और षोडशोपचार पूजा की। भगवान लक्ष्मीनारायण की प्रसन्नता के लिए भक्तों ने उपवास रखा। विशिष्ट सद्कामनाओं की पूर्ति के लिए आस्थावानों ने जवा, चंपा, एवं कमल के पुष्प भगवान को अर्पित किए। अपने पुण्य फलों को अक्षय रखने की कामना से व्रतियों ने जल से भरा हुआ कलश, नवीन वस्त्र, पंखा, खड़ाऊं, छाता, चावल, दही, सत्तू, खरबूजा, तरबूज, जौ, गेहूं,चना, दूध, गुड़ आदि वस्तुएं ब्राह्मणों को दान कीं। बहुतेरे लोगों ने अपने नवीन कार्यों का श्रीगणेश भी किया। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:150 crore business in jewelery retail market on Akshay Tritiya