DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किरायेदार को जलाकर मारने पर 10 साल की कड़ी कैद

प्रतीकात्मक तस्वीर

विशेष न्यायाधीश (भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम) तृतीय अश्वनी कुमार दुबे ने मकान विवाद में किरायेदार को जलाकर मारने के आरोपित को दस साल कड़ी कैद की सजा सुनाई है। इसके साथ ही कोर्ट ने दस हजार रुपये जुर्माना भी लगाया है। 

अभियोजन के मुताबिक कोनिया की यशोदा देवी ने 24 दिसंबर 2014 को आदमपुर थाने में तहरीर दी थी। बताया कि वह रिक्शा चालक पति गफूर के साथ कोनिया में रणधीर उर्फ टीपू के मकान में किराये का कमरा लेकर रहती थी। गफूर हरदोई के सदई बेहा गांव निवासी था। 24 दिसम्बर को दिन में साढ़े 9 बजे मकान मालिक रणधीर गफूर से 500 रुपये बकाया किराया की मांग करने लगा। इस पर दोनों में विवाद होने लगा। गुस्से में रणधीर ने घर के अंदर ही गफूर पर मिट्टी तेल उड़ेला और जला दिया। 

शोर सुनकर यशोदा और आसपास के लोग पहुंचे। आनन-फानन में गफूर को मंडलीय अस्पताल में भर्ती कराया गया। उपचार के दौरान उसकी मौत हो गयी। मौत से पहले गफूर ने मजिस्ट्रेट को दिये बयान में रणधीर को आरोपित बनाया था। गफूर का मृत्युपूर्व बयान आरोपित के गले की फांस बन गया। अभियोजन की तरफ से डीजीसी अनिल कुमार सिंह और एडीजीसी सर्वेंद्र सिंह ने पक्ष रखा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:10 year prison term for tenant murder